close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'हादसों का शहर'! मुंबई में इस साल जुलाई तक आपातकालीन घटनाओं में 137 की मौत

भारत की आर्थिक राजधानी के रूप में मशूहर मुंबई की गणना कभी दुनिया के सुरक्षित शहरों मे हुआ करती थी लेकिन अब यह तस्वीर बदल रही है. 

'हादसों का शहर'! मुंबई में इस साल जुलाई तक आपातकालीन घटनाओं में 137 की मौत
(फाइल फोटो)

मुंबई: साल 1984 मे फिल्म आई थी हादसा. उस फिल्म का एक गाना था 'ये मुंबई शहर हादसो का शहर हैं' ये बात एक आरटीआई से सामने आई जानकारी के बाद पूरी तरह से सही साबित होती दिखाई दे रही हैं.  भारत की आर्थिक राजधानी के रूप में मशूहर मुंबई की गणना कभी दुनिया के सुरक्षित शहरों मे हुआ करती थी लेकिन अब यह तस्वीर बदल रही है. 

आंकड़ों के मुताबिक जुलाई 2019 तक, मुंबई में 9943 आपातकालीन दुर्घटनाओं में कुल 137 लोगों की मौत हो गई जबकि 579 लोगों के घायल हो गए. यह जानकारी बीएमसी ने एक आरटीआई के जवाब में दी है. 

आंकड़ों के अनुसार, 1 जनवरी से जुलाई 2019 तक कुल 9943 आपातकालीन दुर्घटनाएं हुई हैं. इन हादसों में कुल 137 लोग मारे गए, जिनमें 92 पुरुष और 45 महिलाएं शामिल हैं.  इन हादसों में कुल 579 लोग घायल हुए, जिनमें 372 पुरुष और 201 महिलाएं शामिल हैं.

कौन सी घटनाएं शामिल हैं आपातकाल में
पेड़ों/ पेड़ों की शाखाओं के गिरने, घरों / दीवारों / इमारतों / आग / शॉर्ट्स सर्किट, गैस के रिसाव, सड़क पर गिरने, समुद्र / नाली / नदी / कुएं / नाले में गिरने, खदान / मैनहोल में गिरना, अन्य दुर्घटनाएं शामिल हैं. 

किन आपातकालीन घटनाओं में कितने लोग हुए घायल
-आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष में आग/शॉर्ट्स सर्किट के कारण कुल 3032 घटनाएं हुई हैं,जिसमें  9 पुरुषों और 8 महिलाओं सहित कुल 17 लोगों की मौत हो गई है. कुल 127 लोग घायल हुए, जिनमें 85 पुरुष और 42 महिलाएं थीं.

-घरों/दीवारों/ इमारतों के गिरने के कारण कुल 622 घटनाएं हुई हैं, जिसमें 26 पुरुषों और 25 महिलाओं सहित कुल 51 लोगों की मौत हुई है.  कुल 227 लोग घायल हुए, जिनमें 124 पुरुष और 103 महिलाएं शामिल हैं.

-पेड़ों/पेड़ों की डाल के गिरने की कुल 3364 घटनाएं हुई हैं , जिसमें 4 पुरुषों और 1 महिला सहित कुल 5 लोगों की मौत हुई है. 14 पुरुषों और 6 महिलाओं सहित कुल २१ लोग घायल हुए हैं.

- समुद्र/नाले/ नदी/ कुएं/ नाले/ खदान/ मैनहोल में  गिरने की 103 घटनाएं हुई हैं , जिसमें कुल 39 लोगों की मौत हुई है, जिसमें 33 पुरुष और 6 महिलाएं शामिल हैं।  23 पुरुषों और 4 महिलाओं सहित कुल 27 लोग घायल हुए हैं.

- चट्टानों के गिरने की कुल 25 घटनाएं हुई हैं,जिसमें कोई जनहानि नहीं हुई और केवल 1 पुरुष घायल हुआ है.

-शॉक लगने की 114  घटनाएं  हुई हैं,जिसमें 4  पुरुषों और 1 महिला सहित कुल 5 लोगों की मौत हुई है। 5  पुरुषों और 8 महिलाओं सहित कुल 13 लोग घायल हुए हैं.