close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीएम गहलोत ने अपना वादा किया पूरा, सांचौर में बनेगा महाविद्यालय, लोगों में उत्साह

सांचौर में राजकीय महाविद्यालय पुरानी बालिका स्कूल में फिलहाल संचालित हो रहा है. वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नवीन भवन के लिए करीब 1.5 करोड रुपए स्वीकृत कर दिए हैं. 

सीएम गहलोत ने अपना वादा किया पूरा, सांचौर में बनेगा महाविद्यालय, लोगों में उत्साह
फाइल फोटो

बबलु मीणा, जालौर: सांचौर विधानसभा क्षेत्र में पिछ्ले कई वर्षों से राजकीय महाविद्यालय के लिए आवाज उठाई जा रही थी. विभिन्न संगठनों ने धरना प्रदर्शन करके सरकारों को चेताने के बाद भी सांचौर विधानसभा क्षेत्र में सरकारी महाविद्यालय नसीब नहीं हो पा रहा था. शिक्षा के क्षेत्र में सांचौर के अव्वल होने की चलते भी यहां निजी महाविद्यालयों की भरमार है. ऐसे में गरीब तब्बके के छात्रों को उच्च अध्ययन के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था. 

इसको लेकर जालौर जिले के सांचौर क्षेत्र को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ी सौगात देते हुए क्षेत्र के सांचौर और चितलवाना में राजकीय महाविद्यालय खोलने के साथ ही प्रवेश प्रकिया को लेकर क्षेत्र के छात्रों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है. दिनभर सांचौर और चितलवाना के दोनों ही महाविद्यालयों के परिसर में प्रवेश प्रक्रिया को लेकर छात्रों की भीड़ नजर आ रही है. ऐसे में कहीं ना कहीं शिक्षा के क्षेत्र में अव्वल रहने वाले सांचौर क्षेत्र की अब कायाकल्प करने में महत्वपूर्ण योगदान निभाएंगे ये दो महाविद्यालय.

गत फरवरी माह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सांचौर दौरे पर भरे मंच से सांचोर में सरकारी कॉलेज खोलने की घोषणा कि थी. आपकों बता दे स्थानीय विधायक और सूबे के वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री सुखराम विश्नोई ने सीएम गहलोत से क्षेत्र में कॉलेज की प्रमुखता से मांग रखी. उसी दौरान सीएम गहलोत द्वारा भरे मंच से सांचौर के लिए सरकारी कॉलेज खोलने की घोषणा की गई थी. 

इसको लेकर राजस्थान विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सांचौर विधानसभा क्षेत्र में एक के बजाय दो सरकारी महाविद्यालय स्वीकृत हो गए. जिले के सांचौर क्षेत्र में पहले ही बजट के दौरान 2 महाविद्यालय देने के चलते क्षेत्र के लोगों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार जताते हुए कहा है कि सांचौर क्षेत्र पिछले लंबे समय से शिक्षा की दृष्टि से राज्य में अपनी एक अलग पहचान रखता था लेकिन यहां पर राजकीय महाविद्यालय नहीं होने की वजह से निजी विद्यालयों का दबदबा होने के कारण महंगी फीस के चलते अभिभावकों को पढ़ाई के लिए दूरदराज के राजकीय महाविद्यालय में अपने बच्चों को भेजना पड़ता था. ऐसे में क्षेत्र में ही राजकीय महाविद्यालय मिलने के चलते लोगों को काफी राहत मिलेगी.

सांचौर में राजकीय महाविद्यालय पुरानी बालिका स्कूल में फिलहाल संचालित हो रहा है. वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नवीन भवन के लिए करीब 1.5 करोड रुपए स्वीकृत कर दिए हैं. जिसको लेकर स्थानीय कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों के द्वारा कॉलेज के लिए नवीन भवन के लिए भूमि उपलब्ध कराने के बाद वहां पर कॉलेज बनाया जाएगा. ऐसे में बालिका विद्यालय में फिलहाल इस महाविद्यालय का संचालन होगा, जिसको लेकर सभी प्रकार की माकूल व्यवस्था कर दी गई हैं और प्रवेश प्रक्रिया को लेकर सभी प्रकार के इंतजाम पुख्ता कर दिए गए है.

महाविद्यालय में कला वर्ग के सातों विषय- हिन्दी साहित्य, अंग्रेजी साहित्य, समाजशास्त्र, भूगोल, इतिहास, राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र विषय का अध्ययन होगा. गरीब तबके के विद्यार्थियों को होगा फायदा. आपको बता दें कि चितलवाना और सांचौर मे राजकीय महाविद्यालय खुलने से गरीब तबके के विधार्थियों को काफ़ी फायदा होगा. महाविद्यालय में करीब 200 सीटें आरक्षित की गई हैं. सांचौर और चितलवाना के नवीन राजकीय महाविद्यालयों मे प्रवेश प्रक्रिया शुरू होने से छात्रों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है.