महाराष्ट्र: उद्धव सरकार के महिलाओं के लिए ये 5 बड़े वादे, गरीब बच्चियों के लिए फ्री शिक्षा

महाराष्ट्र में सरकार बनाने से पहले शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस ने अधिकारिक तौर पर अपने गठबंधन का ऐलान कर दिया है.

महाराष्ट्र: उद्धव सरकार के महिलाओं के लिए ये 5 बड़े वादे, गरीब बच्चियों के लिए फ्री शिक्षा
प्रोग्राम की प्रस्तावना में ही कहा गया है कि यह सरकार अपने सेक्युलर मूल्यों (Secular Values) पर अडिग रहेगी.(फाइल फोटो)

 नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सरकार बनाने से पहले शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस ने अधिकारिक तौर पर अपने गठबंधन का ऐलान कर दिया है. तीनों दलों ने गठबंधन को 'महा विकास अघाड़ी' नाम दिया है. गुरुवार शाम शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray)  राज्य के 18वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे. इससे पहले कॉमन मिनिमम प्रोग्राम भी जारी कर दिया है. इस कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की शुरूआत में ही कहा गया है कि यह गठबंधन संविधन में वर्णित किए गए धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को लेकर प्रतिबद्ध है. कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में महिलाओं पर विशेष जोर दिया गया है. 

महिलाओं की सुरक्षा इस सरकार की सबसे पहली प्राथमिकताओं में से एक है
आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की बच्चियों की शिक्षा मुफ्त की जाएगी.
शहरों और जिला मुख्यालयों में कामकाजी महिलाओं के लिए हॉस्टल का निर्माण किया जाएगा.
आंगनबाड़ी सेविका और आशा वर्कर्स का मानदेय बढ़ाया जाएगा और सुविधाओं में बढ़ोतरी की जाएगी.
महिला सशक्तिकरण को ध्यान में रखते हुए महिला की मदद करने वाले समूहों को और मजबूत किया जाएगा. 

NCP प्रवक्ता नवाब मलिक, शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे और NCP नेता जयंत पाटील ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की जानकारी दी. प्रोग्राम की प्रस्तावना में ही कहा गया है कि यह सरकार अपने सेक्युलर मूल्यों (Secular Values) पर अडिग रहेगी. न्यूनतम साझा कार्यक्रम में किसानों के मुद्दे (Issues of Farmers) को वरीयता दी गई है. दूसरे नंबर पर बेरोजगारी (Unemployment) को दूर करने की बात कही गई है.