दिल्ली: प्रतिदिन 15 हजार कोरोना रोगियों के हिसाब से की जा रही है तैयारी

कोरोना महामारी से जूझ रहे दिल्ली को इस वक्त सबसे ज्यादा परेशानी आइसीयू बेड को लेकर हो रही है. पिछले कुछ दिनों में, खासकर लगभग 20 अक्टूबर के बाद से दिल्ली के अंदर कोरोना के केस बड़ी तेजी से बढ़ने लगे हैं.

दिल्ली: प्रतिदिन 15 हजार कोरोना रोगियों के हिसाब से की जा रही है तैयारी

नई दिल्लीः कोरोना महामारी से जूझ रहे दिल्ली को इस वक्त सबसे ज्यादा परेशानी आइसीयू बेड को लेकर हो रही है. पिछले कुछ दिनों में, खासकर लगभग 20 अक्टूबर के बाद से दिल्ली के अंदर कोरोना के केस बड़ी तेजी से बढ़ने लगे हैं. इस समय दिल्ली में कोविड बेड जरूरत के अनुसार ठीक-ठाक संख्‍या में है, लेकिन कोविड के आइसीयू बेड बहुत तेजी से भरते जा रहे हैं. 

दिल्ली में बढ़ रहे ICU बेड
हाल ही में दिल्ली सरकार द्वारा किए गए एक आकलन के मुताबिक, दिल्ली में प्रतिदिन सामने आने वाले नए कोरोना रोगियों की संख्या 15,000 तक पहुंचने की आशंका है. इसी को देखते हुए दिल्ली सरकार राजधानी में आईसीयू बेड की क्षमता बढ़ाने का प्रयास कर रही है. इस प्रयास में दिल्ली को केंद्र सरकार का भी साथ मिला है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, "दिल्ली सरकार ने भी आईसीयू बेड बढ़ाए, उसके लिए हमें जिन मशीनों की जरूरत है, उसको देने में केंद्र सरकार मदद करेगी. उसकी मदद से हम दिल्ली सरकार के अस्पतालों में और आइसीयू बेड बढ़ा सकते हैं." 

ये भी पढ़ें-RJD नेता शिवानंद तिवारी का कांग्रेस पर हमला-'चुनाव के दौरान राहुल पिकनिक मना रहे थे'

निजी अस्पतालों में 80 फीसदी बेड कोविड-19 मरीजों के लिए रिजर्व
मुख्यमंत्री ने कहा, "दिल्ली सरकार ने आने वाले सप्ताह में प्रतिदिन 15 हजार कोरोना वायरस के मरीज आने की आशंका के मद्देनजर बेड बढ़ाने का अनुरोध किया था." दिल्ली सरकार के मुताबिक कोविड-19 मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए विभिन्न अस्पतालों में बेड बढ़ाने के लिए बहुत गंभीरता से ध्यान दिया है. दिल्ली सरकार ने सभी निजी अस्पतालों से कोविड मरीजों के लिए बेड की संख्या बढ़ाने और कोरोना मरीजों के लिए 80 फीसदी बेड आरक्षित करने के लिए कहा है.

 दिल्ली सरकार के अस्पतालों में उपलब्ध हैं 5451 बेड
पिछले सप्ताह दिल्ली उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार को कोरोना के मरीजों के लिए 33 निजी अस्पतालों में 80 फीसदी आईसीयू (गहन चिकित्सा इकाई) बेड दो सप्ताह के लिए आरक्षित करने की अनुमति दे दी है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना की गंभीर स्थिति को देखते हुए हाइकोर्ट ने कानूनी रोक को हटाते हुए यह आदेश दिया है. आज की तारीख में 16,641 कोविड बेड पूरी दिल्ली के अस्पतालों में हैं. इसमे 5451 बेड दिल्ली सरकार के अस्पतालों में है, जबकि केंद्र सरकार के अस्पतालों में 3721 बेड हैं और शेष बेड अन्य अस्पतालों से उपलब्ध कराए गए हैं.

ये भी पढ़ें-पाकिस्तान के आरोपों पर भारत ने की बोलती बंद, चुटकी लेते हुए पूछ लिया ये सवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, "इससे पहले भी जब दिल्ली सरकार ने केंद्र से समर्थन मांगा था, उसने हमेशा सकारात्मक सहयोग दिया है और जब भी आवश्यकता हो, राज्य को बेड, चिकित्सा सुविधा और अन्य सहायता प्रदान की है. दिल्ली मॉडल को व्यापक रूप से हर एजेंसी द्वारा स्वीकार किया गया था. सरकार के विभिन्न एजेंसियों के बीच बेहतर समन्वय की वजह से दिल्ली कोविड मामलों को नियंत्रित करने में कामयाब रहा."

 

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.