दिल्ली दंगों की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने तैयार की चार्जशीट, कोर्ट में जल्द करेगी दाखिल

दिल्ली दंगों की जांच कर रही SIT अब जल्द कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी में है.

दिल्ली दंगों की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने तैयार की चार्जशीट, कोर्ट में जल्द करेगी दाखिल

नई दिल्ली: दिल्ली दंगों की जांच कर रही SIT अब जल्द कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी में है. SIT ने अपनी जांच करते हुए नॉर्थ -ईस्ट दंगे के मामले में 2500 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार और हिरासत में लिया था. जिसमें आम आदमी पार्टी का निगम पार्षद ताहिर हुसैन भी शामिल था.

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच SIT के एक जांच अधिकारी ने बताया कि मई के आखिरी में या फिर जून के पहले हफ्ते में 3 या 4 जून को चार्जशीट दाखिल की जा सकती है. चार्जशीट का काम करीब -करीब पूरा हो चुका है. ड्राफ्ट बनकर तैयार है. जिसको एक बार सीनियर ऑफिसर से चेक करवाया जा रहा है.

क्राइम ब्रांच एसआईटी दिल्ली दंगों में ताहिर हुसैन दंगा मामला, IB कर्मचारी हत्या मामला, हेड कांस्टेबल रत्न लाल हत्या मामला, डीसीपी अमित शर्मा हत्या का प्रयास मामला, दिलबर नेगी हत्या मामला, पिस्टल तानने वाला शाहरुख खान मामला जिसमें कॉन्स्टेबल दीपक दहिया पर पिस्टल तानी गई थी, अकबरी देवी (84) हत्या मामला इन सब मामलों की जांच कर रही है.

आम आदमी पार्टी के निगम पार्षद ताहिर हुसैन और उसके साथ 15 से ज्यादा लोगों को दंगों की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. ताहिर हुसैन की छत से गुलेल, पत्थर और पेट्रोल बम बरामद हुए थे. कई ऐसे वीडियो भी सामने आये थे जिसमें ताहिर हुसैन की छत से पथराव हो रहा था और ताहिर उन लोगों को लीड कर रहा था. वहीं ताहिर हुसैन पर आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या का भी आरोप है. जिसमें 10 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इस मामले की भी चार्जशीट आखिरी मोड़ पर है.

गोकलपुरी थाने के दिलबर नेगी की हत्या मामले में मुख्य आरोपी शहनवाज समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. दिलबर नेगी (20) मिठाई की दुकान पर काम करता था उसकी डेडबॉडी क्षत-विक्षत हालात में 26 फरवरी को मकान से बरामद हुई थी. इस मामले की चार्जशीट करीब 300 से जायद पन्नों की तैयार की गई है.

वहीं शाहदरा डिस्ट्रिक्ट के डीसीपी अमित शर्मा के ऑपरेटर हेड कांस्टेबल रतन लाल की हत्या के आरोप में 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिसकी चार्जशीट भी करीब-करीब तैयार हो चुकी है.

दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट डिस्ट्रिक्ट में 23 फरवरी से शुरू हुए दंगे 25 फरवरी तक चले थे. जिसमें करीब 50 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी. जिसके बाद से इस डिस्ट्रिक्ट में दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बलों की कई कंपनियां तैनात की गई थीं. फिर कहीं जाकर हालात सामान्य हो पाए थे. इस मामले में पुलिस ने हत्या, हत्या के प्रयास, दंगा फैलाना और आर्म्स एक्ट के तहत करीब 700 से ज्यादा मुकदमे दर्ज किए थे. पुलिस ने इस मामले में 7 मार्च तक 2193 लोगों को गिरफ्तार और हिरासत में लिया था. जो आंकड़ा उसके बाद 2500 तक पहुंच गया था.

ये भी देखें: