close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बांसवाड़ा में बारिश की भेंट चढ़ी किसानों की मेहनत, फसलों को हुआ भारी नुकसान

इस बार बांसवाड़ा जिले में सितंबर महीने में हुई तेज बरसात ने किसानों की फसलों को खासा नुकसान पहुंचाया है.

बांसवाड़ा में बारिश की भेंट चढ़ी किसानों की मेहनत, फसलों को हुआ भारी नुकसान
बरसात ने सबसे ज्यादा सोयाबीन, मक्का और उडद की फसलों को हुआ है.

अजय ओझा/बांसवाड़ा: राजस्थान के बांसवाड़ा जिले के किसानों ने बड़ी मेहनत करके खेतों में बुवाई की और भगवान से इस बार बरसात के लिए प्रार्थना भी की. लेकिन अब, आसमान से बरसा पानी किसानों के लिए सबसे बडी मुसीबत बन गया. इस बारिश ने किसानों की मेहनत पर पानी फेर दिया है.

इस बार बांसवाड़ा जिले में सितंबर महीने में हुई तेज बरसात और जिले में औसत से ज्यादा हुई बरसात ने किसानों की फसलों को खासा नुकसान पहुंचाया है. गणेश महोत्सव के बाद हुई 3 दिन तक लगातार बरसात से जिले के सभी खेत जलमग्न हो गए. जिस कारण से फसलों को और ज्यादा नुकसान हो गया है. जिले में किसानों ने अधितकर खेतों में सोयाबीन, मक्का, चावल, उडद और कपास की बुवाई की थी, पर बारिश ने इन फसलों को बेतहाशा नुकसार पहुंचाया है.  

खबर के मुताबिक इस बरसात ने सबसे ज्यादा सोयाबीन, मक्का और उडद की फसलों को हुआ है. बता दें कि, जिले में सोयाबीन की फसल की बुवाई 27572 हैक्टेयर में की गई थी, लेकिन बारिश ने 58570 हैक्टेयर की फसलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया. एक अनुमान के अनुसार सोयाबीन की फसल का 60 से 70 प्रतिशत नुकसान हुआ है.

वहीं ऐसा ही कुछ हाल मक्का की फसल का भी है. जिले में 98186 हैक्टेयर में किसानों ने बुवाई की और इसमें से बारिश के कारण 54464 हैक्टेयर की फसल तबाद हो गई. मक्का की फसल का अनुमानित नुकसान 60 से 70 प्रतिशत तक हुआ है. जबकि, उडद की फसल में भी करीब 60 प्रतिशत का खराब हो गई है.

जिले में उड़द की फसल 8893 हैक्टेयर में बोई गई थी, इसमे 3539 हैक्टेयर की फसल खराब हो गई है. कपास और चावल 20 से 30 प्रतिशत का ही नुकसान हुआ है. जिले में कई किसानों ने ब्याज पर रूपए लाकर फसल की बुवाई की थी पर बरसात ने किसानों के अरमानों पर पानी फेर दिया है.

अब जिले के किसानों को सरकार से ही आस है कि वो इन खराब फसलों का सर्वे करवाकर उचित मुआवजा दिलाए. वहीं क्रषि अधिकारी ने बताया की इसका सर्वे हम करवा रहे हैं और जल्द ही इस पूरी रिपोर्ट को हम सरकार व जिला प्रसाशन को भेज देंगे.