कोरोना के खिलाफ एम्स ने शुरू किया कैंपेन, 26 पुलिसकर्मियों ने डोनेट किया प्लाज्मा

एम्स ने आज प्लाज्मा डोनेशन कैंपेन की शुरुआत की. इस कैंपेन को दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर शुरू किया गया है.

कोरोना के खिलाफ एम्स ने शुरू किया कैंपेन, 26 पुलिसकर्मियों ने डोनेट किया प्लाज्मा

नई दिल्ली: एम्स (AIIMS) ने आज प्लाज्मा डोनेशन कैंपेन (Plasma Donation Campaign) की शुरुआत की. इस कैंपेन को दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर शुरू किया गया है जिसमें 26 पुलिसकर्मियों ने प्लाज्मा डोनेट किया.

एम्स ने अप्रैल से अब तक कोरोना से रिकवर हुए 2000 मरीजों से बात की. इनमें से 40 मरीज डोनेशन के लिए आगे आए. इन 40 में से 33 एम्स के ही स्टाफ के थे जबकि 7 अलग अलग जगहों से प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए.

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने प्लाज्मा डोनेशन के लिए पुलिसकर्मियों की सराहना की.

ये भी पढ़ें- कोरोना का टीका तैयार करने में जुटी हैं देश की 7 दवा कंपनियां, यहां जानें अपडेट

उन्होंने कहा कि ये काफी मुश्किल परिस्थिति है, जब दिल्ली में 600 के करीब कंटेनमेंट जोन हैं. वहां पुलिस वाले ड्यूटी भी कर रहे हैं. डॉ. हर्षवर्धन ने दुख जताया कि इस ड्यूटी को निभाते हुए 12 पुलिसकर्मियों की जान भी गई है.

एम्स निदेशक डॉ रंदीप गुलेरिया के मुताबिक ये कैंपेन आगे भी जारी रहेगा लेकिन इसमें लोगों की भागीदारी सबसे जरूरी है.

बता दें कि कोरोना वायरस से ठीक होने के एक महीने बाद कोई स्वस्थ व्यक्ति प्लाज्मा डोनेट कर सकता है. इसके लिए उम्र 18 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए. वहीं वजन 50 किलो या उससे ज्यादा हो तो उसे प्लाज्मा डोनेशन के लिए सही माना जाता है.

ये भी देखें-