दिल्ली हाईकोर्ट ने मकान मालिकों को दी बड़ी राहत, लॉकडाउन के चलते किराए में कोई छूट नहीं

कोरोना संकट के दौरान मकान मालिकों को किराए के मामले में बहुत बड़ी राहत मिली है और अब लॉकडाउन में किराए में छूट नहीं मिल सकती.

दिल्ली हाईकोर्ट ने मकान मालिकों को दी बड़ी राहत, लॉकडाउन के चलते किराए में कोई छूट नहीं

नई दिल्ली: लॉकडाउन (Lockdown) के बहाने यानी Force majeure clause के तहत किराएदार किराए से छूट का दावा नहीं कर सकता. दिल्ली हाईकोर्ट ने ये फैसला सुनाया है. दिल्ली के खान मार्केट के दुकानदार ने इसी क्लाउज के आधार पर दुकान के किराये की भुगतान में छूट दिए जाने की मांग को लेकर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जिसे कोर्ट ने ठुकरा दिया. 

कोरोना संकट के दौरान मकान मालिकों को किराए के मामले में बहुत बड़ी राहत मिली है और अब लॉकडाउन में किराए में छूट नहीं मिल सकती. लॉकडाउन force majeure clause नहीं हो सकता.

हाईकोर्ट में दिल्ली की खान मार्केट का दुकानदार लॉकडाउन के दौरान force majeure clause का आधार बनाकर अपनी दुकान के किराए के भुगतान में छूट दिए जाने की मांग को लेकर पहुंचा था.

हाईकोर्ट ने किराएदार की याचिका खारिज कर दी. हालांकि हाईकोर्ट ने किराएदार को इतनी राहत जरूर दी कि वह किराए की अदायगी में एक-दो महीने का विलंब कर ले. दिल्ली हाईकोर्ट में मकान मालिक और किराएदार का कई साल पुराना विवाद चल रहा था जिसमें किराएदार ने लॉकडाउन के दौरान किराए में छूट की मांग की थी.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट भी मकान मालिकों को राहत दे चुका है. लॉकडाउन के दौरान अदालतें बंद होने के कारण काम न होने पर कमाई ठप होने की वजह से लॉकडाउन और force majeure clause के आधार पर अपने चैंबर और ऑफिस के किराए में छूट दिए जाने की मांग वाली सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और सुप्रीम कोर्ट एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड बार एसोसिएशन की याचिका को खारिज कर चुका है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसे बहुत मकान मालिक हैं जो किराए पर ही गुजर बसर करते हैं.