दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने की 400 विदेशी जमातियों से पूछताछ, सभी मरकज में शामिल होने आए थे

दिल्ली में ही इन सभी 400 जमातियों से पूछताछ की गई है. सभी विदेशी जमाती मरकज में शामिल होने के लिए अलग-अलग देशों से आए थे.

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने की 400 विदेशी जमातियों से पूछताछ, सभी मरकज में शामिल होने आए थे

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने आज जमातियों से पूछताछ की है.  क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक करीब 400 विदेशी जमातियों से पूछताछ की जा चुकी है. दिल्ली में ही इन सभी 400 जमातियों से पूछताछ की गई है. सभी विदेशी जमाती मरकज में शामिल होने के लिए अलग-अलग देशों से आए थे.

क्राइम ब्रांच ने इन करीब 400 जमातियों से उनके दिल्ली स्थित ठिकानों और क्वारंटाइन सेंटर में जाकर पूछताछ की गई.

ये सभी 400 जमाती उन 700 जमातियों में से हैं, जिनके पासपोर्ट और अन्य दूसरे दस्तावेज क्राइम ब्रांच ने जब्त किए हैं.

बाकी जमातियों से भी जल्द पूछताछ की जाएगी.

बता दें कि दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने करीब 700 जमातियों के पासपोर्ट व अन्य दस्तावेज जब्त किए हैं. दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, जमातियों पर शक है कि वह गलत तरीके से वीजा लेकर हिंदुस्तान आए थे और इनकी ट्रेवल हिस्ट्री भी खंगाली जा रही है.

जानकारी के मुताबिक, सभी जमाती भारत टूरिस्ट वीजा के जरिए आए थे और जमात में शामिल हुए थे. वीजा शर्तों के उल्लंघन मामले पर भारत सरकार ने सभी के वीजा रद्द कर दिए थे और Loc खोल दी थी जिससे कोई भी देश से बाहर ना जा सके. खबरों के मुताबिक, मलेशिया के कुछ लोग झूठ बोल कर उनके देश की स्पेशल फ्लाइट से जाना चाह रहे थे. तभी उन्हें इस वजह से दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ा था. इन सभी के खिलाफ विदेशी अधिनियम और वीजा फ्रॉड का मामला दर्ज कर दिल्ली पुलिस जांच कर रही है.

आरोप है कि दुनिया भर से हजारों की संख्या में निजामुद्दीन मरकज में आए जमातियों ने यहां से निकल कर देशभर में कोरोना वायरस फैलाया. निजामुद्दीन के इसी मरकज पर हुकूमत करने वाला मौलाना साद अभी भी फरार है. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच मौलाना साद की खोज में प्रयासरत है. 

आपको बता दें कि कुछ वक्त पहले दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद को नोटिस के जरिए एम्स या किसी सरकारी अस्पताल से कोविड-19 का टेस्ट कराकर रिपोर्ट भेजने को कहा था. मौलाना साद ने दावा किया था कि वह कोविड-19 का टेस्ट करा चुका है और उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई है. उसने नोटिस के जवाब में कहा था कि उसने सरकारी नहीं बल्कि प्राइवेट लैब में कोरोना टेस्ट कराया है.

ये भी देखें: