close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गुजरात में डेंगू का कहर, अबतक 7319 डेंगू के केस हुए दर्ज

 गुजरात में आए दिन डेंगू से लोगों की मौत हो रही है. डेंगू से ना तो बच्चे बच पा रहे हैं और ना ही बड़े, सब इसका शिकार बन रहे है.

गुजरात में डेंगू का कहर, अबतक 7319 डेंगू के केस हुए दर्ज
प्रतीकात्मक फोटो.

गुजरात: गुजरात में डेंगू कहर बनकर लोगों पर बरस रहा है. गुजरात में आए दिन डेंगू से लोगों की मौत हो रही है. डेंगू से ना तो बच्चे बच पा रहे हैं और ना ही बड़े, सब इसका शिकार बन रहे है. गुजरात के ज्यादातर सब ही जिले डेंगू का शिकार बन चुके है. राज्य में डेंगू के रोज़ाना करीबन 1OO से ज्यादा केस दर्ज किये जा रहे है और अब तक दर्ज किये गए डेंगू के केसों की बात करें तो अब तक राज्य में 7319 डेंगू के केस दर्ज किये जा चुके है. 21 अक्टूबर की रोज़ 145 डेंगू के केस दर्ज किये गए थे.

गुजरात के सूरत की बात करें तो सूरत में एक ही सोसाइटी के 24 लोग डेंगू का शिकार बन गए है. सूरत की इस यमुनाकुंज सोसाइटी में 24 लोगों में एक 10 महीने की बच्ची भी शामिल है जो डेंगू का शिकार बनी है.

एक ही सोसाइटी के 24 लोगों को डेंगू होने से सोसाइटी के लोग गुस्से में है और उनकी नगर निगम से मांग है की सोसाइटी के आसपास रोज़ ठीक से सफाई की जाए. कुछ ऐसा ही हाल गुजरात के जामनगर का भी है. जामनगर में डेंगू से अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है जिसमे एक 6 साल की बची भी शामिल है जिसकी डेंगू की वजह है मौत हो चुकी है. जामनगर में पिछले 3 दिनों में 300 डेंगू के केस दर्ज किये जा चुके है.

लाइव टीवी देखें



जामनगर में डेंगू से हुई मौतों को देखते हुए जामनगर की सांसद पूनमबेन माडम और गुजरात के कैबिनेट मंत्री आर.सी.फलदू ने जामनगर के जीजी हॉस्पिटल का दौरा किया और हॉस्पिटल के डॉक्टर समेत डीन के साथ बैठक भी की थी जिसमे जामनगर म्युनिसिपल कारपोरेशन के मेयर समेत म्युनिसिपल कमिश्नर भी बैठक में शामिल हुए थे. इस तरह राज्य भर में डेंगू से लोग पीड़ित है और कइयों की मौत भी हो चुकी है. सरकार का कहना है की वे इस पर नजर बनाए हुए है और हर संभव कोशिश कर रहे है.

राज्यों के तमाम जिलों की बात करें तो बनासकांठा में अब तक 225 डेंगू के केस दर्ज हो चुके है. दाहोद में 158 केस, सूरत में 146 केस, राजकोट में 250 केस, जामनगर में 202 केस, द्वारका में 199 केस, अमरेली में 105 केस, कच्छ में 113 केस, वलसाड में 140 केस और गांधीनगर में 251 डेंगू के केस दर्ज किये गए है. सबसे कम डेंगू के केस डांग में 2 , पोरबंदर में 5 , बोटाद में 5 और नर्मदा में 6 केस दर्ज किये गए है.

राज्य में लगातार डेंगू के केस में बढ़ोतरी देख सरकार चिंतित है. मुख्य सचिव जे ऍन सिंह ने राज्य के तमाम जिला कलेक्टर, जिला आरोग्य अधिकारी और म्युनिसिपल कमिश्नरों के साथ वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग कर मुख्य सचिव ने डेंग्यू से प्रभावित जिलों और शहरों में वीकली "डाय डे" अभियान चालाने की सुचना दी है. "डाय डे" के दौरान तमाम पानी के कंटेनरों को खाली करके दवाई छांटने का आदेश दिया दिया है. आपको बता दें राज्य सरकार ने गर्भवती महिलाओं को डेंगू से बचाने के लिए 431425 गर्भवती महिलाओं को मछरदानी बाटी है.