close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान हो सकता है निवेश का बेहतर विकल्प: उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट

Meeting for Investment with CEO in Jaipur: राजधानी जयपुर में उत्तर भारत के उद्योगों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बैठक की.

राजस्थान हो सकता है निवेश का बेहतर विकल्प: उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट
उत्तर भारत के सीईओ की यह देशभर में चौथी बैठक रही.

जयपुर: उत्तर भारत के उद्योगों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जयपुर(Jaipur) में हैं. राजस्थान(Rajasthan)में निवेश संभावनाओं (Investment Opportunity)से जुड़ी अहम बैठक में इन्होंने शिरकत की. बैठक को उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) और उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा(Parsadi Lal Meena)ने संबोधित किया. 

दोनों नेताओं ने उत्तर भारत के सीईओ को प्रदेश में निवेश संभावनाओं और सरकारी रियायतों की जानकारी दी. उद्योग प्रमुख सचिव डॉ सुबोध अग्रवाल भी बैठक में मौजूद रहे. प्रदेश में निवेश के प्रस्तावों को तुरंत हरी झंडी देने का भी मैसेज सीईओ को दिया.

औद्योगिक सम्भावनाओं से भरपूर राजस्थान
होटल जयमहल पैलेस में हुई बैठक में बाद मीडिया से जानकारी साझा करते हुए उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि मुलाकात सकारात्मक रही. राजस्थान औद्योगिक सम्भावनाओं से भरपूर क्षेत्र हैँ, यहां का शांत वातावरण औद्योगिक विकास को प्रोत्साहित करता हैं. नई नीतियों से प्रदेश में निवेश का माहौल बना हैं. देश के वर्तमान हालातों में रोजगार चुनौती के रुप में उभरा हैं. नया निवेश रोजगार उपलब्धता में मददगार साबित होगा. डीएमआरसी कॉरिडोर भी नए कीर्तिमान स्थापित करेगा. प्रदेश में अनुकुल औद्योगिक माहौल, जमीन, नीतियां, कुशल मानव श्रम से प्रदेश को लाभ होगा.

रीको देगा सस्ती जमीन
उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि नई औद्योगिक नीति(New Industrial Policy)  के प्रावधानों को अंतिम रुप दिया जा रहा हैँ, नया एमएसएमई एक्ट प्रदेश में बिना पूर्व अनुमति सीधे उद्योग शुरू करने का अवसर दे रहा हैं. रीको का औद्योगिक लैंड बैंक भी उद्यमियों के लिए मददगार साबित होगा, रीको वाजिब कीमतों पर इंडस्ट्री लगाने के लिए जमीन उपलब्ध करवा रहा हैं. इसके साथ ही रिप्स के प्रावधान भी उद्यम हितैषी बनाए जा रहे हैँ.

औद्योगिक नीतियों की दी जानकारी
उत्तर भारत के सीईओ की यह देशभर में चौथी बैठक रही. राजस्थान के विभिन्न सेक्टर को इसका लाभ मिलना तय हैँ. अगर सरकार अपनी नीतियों से उद्यमियों को लुभाने में सफल रही तो नया निवेश प्रदेश के औद्योगिक विकास को नए आयाम दे सकता हैँ. सीआईआई की नॉर्दन रीजन काउंसिल(Northern Region Council) की बैठक में उत्तरी क्षेत्र के चण्डीगढ़, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू एवं कश्मीर, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड के सीआईआई के प्रतिनिधि उद्यमियों ने हिस्सा लिया.