close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

GST पर क्या ऐसी बात के लिए ट्रोल हो गईं निर्मला सीतारमण जो उन्होंने कही ही नहीं, जानें सच

यह सारा विवाद उस समय शुरू हुआ जब पुणे में एक कार्यक्रम में निर्मला सीतारमण जीएसटी से जुड़े एक सवाल का जवाब दे रही थी.

GST पर क्या ऐसी बात के लिए ट्रोल हो गईं निर्मला सीतारमण जो उन्होंने कही ही नहीं, जानें सच
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (फोटो साभार ANI)

पुणे: पुणे (Pune) में बिजनेसमैन, चार्टेड अकाउंटेंट्स के सवालों का जवाब देते समय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ( Nirmala Sitharaman) ने जीएसटी (GST) को लेकर जो कहा उसके बाद वह ट्रोल हो गई. हालांकि वित्त मंत्री ने वह कहा ही नहीं था जिस पर विवाद पैदा किया गया और जिसके लिए उन्हें ट्रोल किया गया . 

दरअसल निर्मला सीतारमण GST पर जवाब दे रही थी. सवाल पूछने वाले ने जीएसटी की खामियां गिनाते हुए इसमें आने वाली दिक्कतों की बात की. जवाब देते समय वित्त मंत्री ने कहा कि- 'GST को सभी पार्टियों के लोग ,सभी राज्य सरकारें, कई साल के बाद एक साथ मिलकर संसद में लाए हैं. लेकिन अचानक हम इसे यह नहीं कह सकते कि ये कितना खराब स्ट्रक्चर लाया गया है. और ये परेशान कर रहा है (We can't sum it what a god damm structure is this) . 

वित्त मंत्री ने कहा, 'इसे अभी केवल 2 साल ही हुए हैं. मैं उम्मीद करती हूं कि इसे पहले ही दिन से आपकी संतुष्टि के हिसाब से होना था , पर मुझे माफ़ करना ये आपकी संतुष्टि के हिसाब से नहीं हो पाया. होना यह चाहिए कि  GST को बैटर कंप्लायंस वाला बनाने के लिए हम सबको मिलकर सॉल्युशन पर काम करना चाहिए. "

यहां तक तो बात नॉर्मल चल रही थी किंतु आगे जो वित्त मंत्री ने बोला उसे तोड़ मरोड़ कर ऐसा पेश किया गया जैसे कि वित्त मंत्री को GST पर आने वाली दिक्कतों की परवाह ही नहीं.

वित्त मंत्री ने कहा,'आप हार्श हैं GST पर तो मुझे लगता है कि हम सबकी थोड़ी जिम्मेदारी है देश में , और मुझसे जितना होगा मैं बिल्कुल करुंगी, सबसे मिलूंगी सबकी बात सुनूंगी.  लेकिन हम इसे खारिज नहीं कर सकते, इसे बिल्कुल बेकार का नहीं कह सकते.(We can't just damm it )'

बस ये अंग्रेजी में कहा गया वाक्य "We can't just damm it " को उठा कर कुछ लोगों ने इसे सवाल के पीछे जोड़ इस तरह से पेश किया जिससे ऐसा लगा कि वित्त मंत्री ये कह रही हैं कि आपको GST  से समस्या है तो हम इसमें क्या करें . निर्मला को ट्रोल करने वाले ने यह भी जानना जरूर नहीं समझा निर्मला ने इसके बाद भी कुछ कहा है उसे भी सुना जाए.

फिर यह हेडलाइन ये बनाई गई- "I am sorry GST didn't meet your satisfaction ,we can't damm it". एक हेडलाइन तो ऐसी बनाई गई कि जिससे ऐसा लग रहा है कि उन्होंने ये कहा कि 'ये देश का कानून है कि हम इसे वाहियात नहीं कह सकते ' यानि देश का कानून ये कह रहा है कि इसे वाहियात या बेकार नहीं कहो. हेडलाइन देखिए- It's law of the country ,we can't just damm it': Nirmala Sitaraman loses cool after GST critcism .

इन हेडलाइन से ऐसा लगा जैसे कि वित्त मंत्री को GST पर लोगों की बातों से कोई मतलब नहीं जबकि वित्त मंत्री की कहने का मतलब था कि हम GST को एकदम खारिज नहीं कर सकते . इसलिए उन्होंने सवाल पूछने वाले की सोच के आधार पर जवाब देते हुए कहा कि "हम GST को एकदम बाहियात या बेकार नहीं कह सकते . ये देश का एक कानून है ,ये संसद में पास हुआ है,राज्यों की विधानसभा में पास हुआ है. इसमें कुछ कमी भले ही हो सकती है या आपको परेशानी भी हो सकती है."

इसके बाद उन्होंने सभी से अपील की कि सबको एकसाथ आकर काम करना चाहिए इसके लिए पुख्ता खाका बनाना चाहिए बजाए GST  को वाहियात कहने या बिल्कुल खारिज करने के.

मतलब साफ है कि जिस 'डैम' वाली बात को आधार बना कर उनकी ट्रोलिंग हुई वो दरअसल किसी और वाक्य के साथ किसी और परिपेक्ष्य में कहीं गई थी और ट्रोल आर्मी ने बिना सोचे समझे निर्मला सीतारमण पर दनादन हमले शुरू कर दिए.