close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: नामांकन को लेकर आज दिन भर विवादों में रहा राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन

वैभव गहलोत(Vaibhav Gehlot)ने मंगलवार को के अध्यक्ष पद पर नामांकन भरा था. जिसके बाद उनके निर्विरोध निर्वाचन के कयास लगाए जा रहे थे. लेकिन बुधवार को परिस्थितियां बदली नजर आई.

जयपुर: नामांकन को लेकर आज दिन भर विवादों में रहा राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन
रामेश्वर डूडी ने सरकार और चुनाव अधिकारी पर कई आरोप लगाए.

जयपुर: राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन (Rajasthan Cricket Association)में चुनावी विवादों को लेकर घमासान जारी रहा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok gehlot)के बेटे वैभव गहलोत(Vaibhav Gehlot)ने मंगलवार को के अध्यक्ष पद पर नामांकन भरा था. जिसके बाद उनके निर्विरोध निर्वाचन के कयास लगाए जा रहे थे. लेकिन बुधवार को परिस्थितियां बदली नजर आई.

राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन में आज दिनभर विवाद की स्थिति बनी रही. अपने जिला संघों के डीएफलिएशन के बाद भी रामेश्वर डूडी ने वैभव गहलोत के सामने आज अपना नामांकन पत्र दाखिल किया. वैसे रामेश्वर डूडी गुट की ओर से जिन तीन पदाधिकारियों ने नामांकन दाखिल किया था. उनके जिला संघ के डिएफलिएटेड होने के चलते इन तीनों ही नामांकन को चुनाव अधिकारी ने खारिज कर दिया. लेकिन फिर भी रामेश्वर डूडी ने अंत तक लड़ाई लड़ने की चेतावनी दी है.

आपको बता दें कि जोधपुर जिला संघ के सचिव राम प्रकाश चौधरी की ओर से भी वैभव के खिलाफ डूडी गुट से नामांकन भरा गया. अब वैभव गहलोत के सामने मुकाबले में राम प्रकाश चौधरी की सीधी टक्कर दे रहे हैं. 

आज डूडी ग्रुप की तरफ से उपाध्यक्ष पद पर ऐश्वर्य कटोच और शत्रुघ्न, सचिव पद पर सोमेंद्र, विनोद, ओर आरएस नादूं, संयुक्त सचिव पद पर अनंत व्यास, ब्रजकिशोर और पिंकेश जैन कोषाध्यक्ष पर, अनंत व्यास और ब्रजकिशोर और एग्जीक्यूटिव मेंबर पर रमेश गुप्ता का नामांकन दाखिल किया गया. लेकिन इनमें से आएएस नांदू और विनोद सारण का नामांकन खारिज कर दिया गया. 

अपना नामांकन खारिज होने के बाद रामेश्वर डूडी ने सरकार और चुनाव अधिकारी पर कई आरोप लगाए. रामेश्वर डूडी ने कहा कि सरकारी मशीनरी का उपयोग करके चुनाव को प्रभावित किया जा रहा है और चुनाव अधिकारी हाई कोर्ट के ऑर्डर और लोकपाल के आदेश को नहीं मान रहे हैं.

हालांकि लोकपाल ने आज दिन में तीनों जिला संघों को चुनाव में शामिल करने की अनुशंसा की थी. लेकिन चुनाव अधिकारी ने इस अनुशंसा को मानने से इंकार कर दिया. इस दौरान तीन पदाधिकारियों के नामांकन को खारिज कर दिया गया. जिसके बाद रामेश्वर डूडी ने अंत तक मैदान में डटे रहने की चेतावनी देते हुए मामले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है.

चुनाव से संबंधित स्क्रुटनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद चुनाव अधिकारी आरआर रश्मि ने मीडिया से बात की. उन्होंने कहा कि चुनाव प्रक्रिया पूरी निष्पक्ष तरीके से करवाई जा रही है. 

उन्होंने कहा कि तीन प्रत्याशियों ने अपने नामांकन दाखिल किया था. जिसे लोकपाल की अनुशंसा पर स्वीकर किया गया. उन्होंने बताया कि तीन उम्मीदवारों का नाम वोटर लिस्ट में नहीं होने के चलते इनके नामांकन को खारिज कर दिया गया.

उन्होंने 4 अक्टूबर को होने वाली पूरी चुनावी प्रक्रिया को निष्पक्ष तरीके से करवाने की बात कही है. लेकिन रामेश्वर डूडी के आरोपों पर चुनाव अधिकारी आरआर रश्मि ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

सीपी जोशी गुट ने ली राहत की सांस
शाम 5:00 बजे तक नामांकन की स्क्रूटनी होने के बाद सीपी जोशी गुट काफी खुश नजर आ रहा था. क्योंकि रामेश्वर डूडी, आर एस नान्दू और विनोद सारण के नामांकन खारिज होने के बाद इनको एक बड़ी राहत मिली है.

सीपी जोशी गुट के रामपाल शर्मा ने कहा कि पूरे चुनावी प्रक्रिया निष्पक्ष तरीके से हो रही है. 3 जिला संघों को डिएफलिएटेड किए जाने के बाद भी उन्होंने जोर जबरदस्ती से नामांकन भरा. शर्मा ने कहा कि चुनाव अधिकारी का फैसला सर्वोपरि है.

वहीं, मीडिया से बातचीत में अमीन पठान ने कहा कि रामेश्वर डूडी की ओर से सरकार की मशीनरी का दुरुपयोग के आरोप लग रहे हैं. लेकिन आज आरसीए में जो डूडी गुट की ओर से हंगामा किया गया है वह किसी से छुपा हुआ नहीं है. पठान ने कहा कि युवाओं को बरगला कर रामेश्वर डूडी ने एसएमएस स्टेडियम पर एकत्रित किया और उसके बाद जो हंगामा किया वह किसी भी हाल में ठीक नहीं है.