close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बड़ी खबर: चित्तौड़गढ़ जिले के रावतभाटा में 350 बच्चे सुरक्षित, पानी कम होने पर पहुंचेंगे घर

अतिरिक्त कलेक्टर मुकेश छैला कलाल का कहना है कि बच्चों को दूसरे स्कूल में शिफ्ट कर दिया गया है. वे पूरी तरह सुरक्षित हैं.

बड़ी खबर: चित्तौड़गढ़ जिले के रावतभाटा में 350 बच्चे सुरक्षित, पानी कम होने पर पहुंचेंगे घर
उन्होंने बताया कि बच्चों के खाने पीने के लिए प्रशासन ने पूरी व्यवस्था कर रखी है.

चित्तौड़गढ़: राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले के रावतभाटा में लगभग 350 बच्चों के बाढ़ के कारण फंसे होने की खबर के बाद प्रशासन हरतक में आया है. चित्तौड़गढ़ के अतिरिक्त कलेक्टर मुकेश कलाल रावतभाटा पहुंच चुके हैं.

अतिरिक्त कलेक्टर मुकेश छैला कलाल का कहना है कि और ब्लॉक होने की वजह से आसपास की बस्तियों को खाली करा दिया गया है. इसके अलावा बच्चों को दूसरे स्कूल में स्विफ्ट कर दिया गया है.

उनका कहना है कि पानी के कम होने पर बच्चों को उनके गंतव्य स्थान पर छोड़ दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि बच्चों के खाने पीने के लिए प्रशासन ने पूरी व्यवस्था कर रखी है. इसके अलावा प्रशासनिक अधिकारियों के साथ पुलिस जाब्ता तैनात है. बच्चों के बाढ़ में फंसे होने की खबर की बाद परिजनों ने प्रशासन से गुहार लगाई थी.

आपको बता दें कि राजस्थान में मुसालाधार बारिश का दौरा जारी है. सड़कों से लेकर कई बस्तियां पानी में जलमग्न हो गईं है. इसी बीच चित्तौड़गढ़ के भैरोसगढ़ के निजी स्कूल में ये बच्चे फंसे हुए हैं. बता दें कि कि जिले के राणा प्रताप डैम के 17 गेट भारी बारिश के कारण खोल दिए गए है. भारी बारिश के कारण जिले के कई कस्बों में हाहाकार मचा हुआ है.

बता दें कि प्रदेश में कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण हालात काफी खराब है. मानसून में भारी बारिश से पूरे प्रदेश के नदी नालों में भारी पानी की आवक हो रही है. अभी भी बारिश को दौर लगातार जारी है. भारी बारिश से लोगों का जन-जीवन पूरी तरह से अस्त-वयस्त हो चुका है. अभी भी भारी बारिश से लोगों को निजात मिलने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं. हालात ये हैं की सड़कों पर पानी भरा है.