close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

स्टालिन ने की राहुल गांधी से फोन पर बात, 'कांग्रेस अध्यक्ष पद नहीं छोड़ने का किया अनुरोध'

 स्टालिन ने राहुल से कहा कि कांग्रेस पार्टी को भले ही लोकसभा चुनावों में हार का सामना करना पड़ा लेकिन ‘आपने लोगों का दिल जीत लिया है.’

स्टालिन ने की राहुल गांधी से फोन पर बात, 'कांग्रेस अध्यक्ष पद नहीं छोड़ने का किया अनुरोध'
डीएमके चीफ एम के स्टालिन (फाइल फोटो)

चेन्नई: डीएमके प्रमुख एम के स्टालिन ने मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से अपने पद से नहीं हटने का अनुरोध किया और कहा कि उनकी पार्टी भले ही आम चुनाव हार गयी लेकिन राहुल ने लोगों का दिल जीता है.

डीएमके ने यहां कहा कि राहुल के पद छोड़ने पर अड़े रहने की खबरों के बीच स्टालिन ने राहुल गांधी से फोन पर बात की और उनसे पार्टी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देने का विचार छोड़ने की अपील की.

'राहुल ने जीता लोगों का दिल'
पार्टी के अनुसार स्टालिन ने राहुल से कहा कि कांग्रेस पार्टी को भले ही लोकसभा चुनावों में हार का सामना करना पड़ा लेकिन ‘आपने लोगों का दिल जीत लिया है.’

राहुल और उनकी मां सोनिया गांधी ने तमिलनाडु में डीएमके नीत गठबंधन की शानदार जीत के लिए स्टालिन को बधाई दी. डीएमके ने कहा कि स्टालिन 30 मई को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में वाईएसआर कांग्रेस के प्रमुख जगनमोहन रेड्डी के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेंगे.

'राहुल को कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहना चाहिए'
वहीं कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली ने मंगलवार को पार्टी अध्यक्ष के पद पर राहुल गांधी के बने रहने का समर्थन करते हुए कहा कि लोकसभा चुनावों में हार इस पार्टी के लिए वक्ती बात है.  मोइली ने कहा कि एक दो चुनावों के परिणामों से उस पार्टी का भविष्य तय नहीं हो सकता जिसने अपने लंबे इतिहास में कई उतार चढ़ाव देखे हैं.

मोइली ने राहुल गांधी को पार्टी के लिए ‘प्रेरणा’ बताते हुए कहा कि कांग्रेस प्रमुख पद को छोड़ना उनके लिए मुनासिब नहीं होगा.  उन्होंने कहा,‘केवल इसलिए कि (नरेंद्र) मोदी जीत गए हैं..यह अध्यक्ष पद छोड़ने की कोई वजह नहीं है. आखिरकार, कांग्रेस पार्टी के लिए उतार चढ़ाव बहुत सामान्य रहे हैं. हमने इन्हें कई बार देखा है.’ 

मोइली ने कहा कि कांग्रेस का भविष्य एक लोकसभा चुनाव और एक दो विधानसभा चुनाव तय नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि गांधी को पद से इस्तीफा देने की बात पर अड़ना नहीं चाहिये और उन्हें देश एवं पार्टी के भविष्य को दिशा देते रहना चाहिए.