close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

माही बजाज सागर के पानी ने डूंगरपुर में मचाया हाहाकार, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

इधर कडाना बांध के बैक वाटर क्षेत्र में आने वाले गलियाकोट कस्बे में जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी करते हुए कस्बे के निचले इलाके खाली करने के निर्देश दिए है. 

माही बजाज सागर के पानी ने डूंगरपुर में मचाया हाहाकार, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी करते हुए गलियाकोट के निचले इलाके खाली करने के निर्देश दिए है.

डूंगरपुर: बांसवाड़ा(Banswara) जिले में मूसलाधार बारिश(Heavy Rain) के बाद माही बजाज सागर के सभी 16 गेट खोलने के बाद भारी जल प्रवाह डूंगरपुर जिले (Dungarpur) के लिए परेशानी का कारण बन चुका है.

यहां के बेणेश्वर धाम सहित जिले के कई पुलों पर माही बांध से आने वाला पानी 5 से 7 फिट ऊपर तक बह रहा है. जिस कारण कई सड़क मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं. 

निचले इलाके खाली करने के  निर्देश
इधर कडाना बांध के बैक वाटर क्षेत्र में आने वाले गलियाकोट कस्बे में जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी करते हुए कस्बे के निचले इलाके खाली करने के निर्देश दिए है. इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों ने प्रभावित क्षेत्रों में जाकर निर्देश भी दिए.

LIVE TV देखें:

सुरक्षित स्थान पर जाने की दी जा रही हिदायत
तहसीलदार, उपखण्ड अधिकारी और पुलिस के जवान प्रभावित क्षेत्रों में घर-घर जाकर लोगो को क्षेत्र खाली करने के निर्देश दे रहे है. इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर ऐलान कर लोगों को सुरक्षित स्थान पर जाने की हिदायत दी जा रही है. 

गलियाकोट तहसीलदार ने जारी किए आदेश
हम आपको बता दें कि कडाणा बांध के बेक वाटर में आने वाले गलियाकोट कस्बे में पानी खतरे के निशान के करीब आ चुका है और पानी की आवक लगातार जारी है. जिसके चलते गलियाकोट तहसीलदार ने सार्वजनिक सूचना जाहिर कर प्रभावित क्षेत्र खाली करने के आदेश जारी किए है.

गलियाकोट कस्बे में पानी खतरे के निशान पर
बता दें, माही बांध के गेट खुलने से माही नदी का पानी गलियाकोट क्षेत्र में कडाना बांध के बेक वाटर में आ रहा है. जिसके चलते बेक वाटर क्षेत्र में आने वाले गलियाकोट कस्बे में पानी खतरे के निशान पर पहुंच गया है. इसके बाद गलियाकोट में डूब क्षेत्र में रहने वाले लोगों को स्थान खाली करने की चेतावनी दी गई है. प्रशासन ने उनके ठहरने के लिए एक निश्चित और सुरक्षित स्थान की व्यवस्था की है.