बिना सुविधा के डेंगू और मलेरिया के मरीजों से जूझ रहा डूंगरपूर का जिला अस्पताल

एक तरफ मौसमी बिमारियां तो दुसरी तरफ अस्पताल की लापरवाही का ख़ामियाज़ा जनता को भुगतना पड़ रहा है. डूंगरपुर जिले में अब तक 5 डेंगू के मामले सामने आए हैं और कई मरीज मलेरिया जैसी बीमारी से ग्रसित भी है, लेकिन डूंगरपुर जिला अस्पताल और सागवाड़ा अस्पताल में तीन साल से डेंगू की जांच की सुविधा तक नहीं है. इसका कारण यह है कि अस्पताल में डेंगू जांच की मशीन तो है लेकिन जांच के लिए जरूरी केमिकल नहीं होने से जांच नही हो पा रही है और मजबूरन लोगों को निजी लेबोरेट्री में जाना पड़ रहा है.

बिना सुविधा के डेंगू और मलेरिया के मरीजों से जूझ रहा डूंगरपूर का जिला अस्पताल
बगैर सुविधा के डेंगू और मलेरिया के मरीजो से जूझ रहा डूंगरपूर का जिला अस्पताल

डूंगरपुर:एक तरफ मौसमी बिमारियां तो दुसरी तरफ अस्पताल की लापरवाही का ख़ामियाज़ा जनता को भुगतना पड़ रहा है. डूंगरपुर जिले में अब तक 5 डेंगू के मामले सामने आए हैं और कई मरीज मलेरिया जैसी बीमारी से ग्रसित भी है, लेकिन डूंगरपुर जिला अस्पताल और सागवाड़ा अस्पताल में तीन साल से डेंगू की जांच की सुविधा तक नहीं है. इसका कारण यह है कि अस्पताल में डेंगू जांच की मशीन तो है लेकिन जांच के लिए जरूरी केमिकल नहीं होने से जांच नही हो पा रही है और मजबूरन लोगों को निजी लेबोरेट्री में जाना पड़ रहा है.

बारिश के बाद बदलते मौसम के कारण कई लोग मौसमी बीमारियों के साथ-साथ मलेरिया की चपेट में आ जाते है. इसके अलावा इस मौसम में डेंगू का प्रभाव भी ज्यादा रहता है. इसलिए गंभीर मरीजो को अस्पताल में डेंगू की भी जांच करवाई जाती है. मेडिकल कॉलेज डूंगरपुर से संबंधित श्रीहरिदेव जोशी जिला अस्पताल में  3 साल पहले जांच ले लिए मशीन आई थी लेकिन एक मशीन बिना जांच के ही खराब हो गई. इसके बाद नई मशीन भी खरीदी गई लेकिन केमिकल नहीं होने से जांच सुविधा शुरू नहीं हो सकी है.

अस्पताल में डेंगू जांच की व्यवस्था नहीं होने पर मरीजों को निजी लेबोरेट्री में जाना पड़ता है. जिससे उन्हें ज्यादा पैसा खर्च करना पड़ता है. वही सरकारी अस्पतालों में डेंगू की जांच नहीं होने से विभाग के पास जिले में डेंगू मरीजों का कोई आंकड़ा भी विभाग के पास नहीं है. जिले में अब तक निजी लैब पर जांच में 5 डेंगू के मरीज चिन्हित हुए है वहीं डेंगू की जांच को लेकर मेडिकल कॉलेज प्रबंधन से बात की गई तो उन्होंने बताया कि एलाइजा मशीन तो है लेकिन केमिकल की डिमांड की गई है. केमिकल आते ही डेंगू की जांच भी शुरू कर दी जाएगी.