close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: फर्जी क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी पर कसेगा शिकंजा, प्रवर्तन निदेशालय लेगा एक्शन

राजस्थान(Rajasthan)के लाखों लोग क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी(Credit Coperative Society)के जाल में अपनी जमा पूंजी गंवा चुके हैं. प्रवर्तन निदेशालय(Enforcement Directorate)अब ऐसे लोगों पर एक्शन की तैयारी में है.

जयपुर: फर्जी क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी पर कसेगा शिकंजा, प्रवर्तन निदेशालय लेगा एक्शन
मामले में जल्द ही ईडी कुछ जगह छापेमारी भी कर सकती है. (प्रतीकात्मक फोटो साभार: DNA)

जयपुर: राजस्थान(Rajasthan)के लाखों लोग क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी(Credit Coperative Society)के जाल में अपनी जमा पूंजी गंवा चुके हैं. प्रवर्तन निदेशालय(Enforcement Directorate)अब ऐसे लोगों पर एक्शन की तैयारी में है. करीब एक दर्जन कॉपरेटिव सोसायटी के लेनदेन पर विभाग कड़ाई से नजर रख रहा है. मनी लांड्रिंग एक्ट(Money Laundering Act)के तहत विभाग जानकारियां जुटा रहा है. पहले से ही तीन प्रमुख सोसायटियों के प्रमोटर सलाखों के पीछे हैं और अन्य पर एक्शन की तैयारी चल रही है.

दरअसल प्रदेश में आदर्श, नवजीवन और संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों के घोटाले और निवेशकों के करोड़ों रुपए ठगी लोगों के मामले सामने आ चुके हैं. राजस्थान के साथ गुजरात, मध्यप्रदेश, हरियाणा, पंजाब के लोगों ने अपनी जमापूंजी मोटे मुनाफे के लालच में प्रमोटर्स के हवाले की थी. 

छलावे में आकर गंवा चुके पैसा
कंपनी संचालकों ने निवेशकों को दिखावे के लिए शुरूआती उपहार बड़ी संख्या में दिए. लोग छलावे में आए और ठगे गए. आरबीआई और प्रदेश का सहकारिता विभाग भी इन क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों के बढ़ते क्रेडिट फ्लो और धन के स्त्रोतों की समय पर ऑडिट करने में नाकाम रहा. इसके चलते गरीब और मध्यमवर्गीय तबके के करोड़ों रुपए डूबने के कगार पर हैं.

संदिग्ध लेनदेन का है अंदेशा
प्रवर्तन निदेशालय को अंदेशा है कि क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों की ओर से इकट्टा किए गए करोड़ों रुपए का लेनदेन संदिग्ध है. मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत इन पर कार्रवाई हो सकती है. ईडी प्रदेश की एक दर्जन क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों के पिछले कुछ अरसे के लेनदेन की जांच कर रहा है. मामले में जल्द ही ईडी कुछ जगह छापेमारी भी कर सकता है. मामले सामने आने के बाद प्रदेश सरकार की भी नींद खुली है.

सात सोसायटियों के रजिस्ट्रेशन निरस्त
गौरतलब हो कि राज्य सरकार के सहकारिता विभाग ने सात सोसायटियों के रजिस्ट्रेशन निरस्त किए है. क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों के पीड़ितों के लिए अपनी शिकायत दर्ज कराने 181 हेल्पलाइन की सुविधा शीघ्र शुरू करने की तैयारी है. 7 क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों शुभ, सुधन, पार्वती, दानी, अम्बे, केशव एवं सुप्रीम क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटी का पंजीयन निरस्त कर दिया गया है. 10 क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियों के नाम जांच के लिए एसओजी भेजे गए है, लेकिन इन सब कवायदों के बीच निवेशकों को धनराशि वापस मिलने की गारंटी नहीं मिल पाई है.

Pooja Sharma, News Desk