close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राधा राजोरा ने कोटा का नाम किया रौशन, पूरी की 12500 फीट की चढ़ाई

कोटा की राधा राजोरा ने हाड़ोती की पहली महिला पर्वतारोही(First Female Climber) होने का गौरव हासिल किया है.

राधा राजोरा ने कोटा का नाम किया रौशन, पूरी की 12500 फीट की चढ़ाई
पर्वतारोही राधा राजोरी.

कोटा: वैसे तो राजस्थान(Rajasthan) का कोटा(Kota) इंजिनियरिंग और मेडिकल की तैयारी करने वालों के लिए पसंदीदा जगह माना जाता है. लेकिन कोटा जिले को एक ओर उपलब्धि हासिल हुई है. कोटा की राधा राजोरा ने हाड़ोती की पहली महिला पर्वतारोही(First Female Climber) होने का गौरव हासिल किया है.

हिमाचल के बर्फीले पहाड़ों पर भूखे प्यासे रहकर विपरीत परिस्थितियों में बर्फीले तूफान के बीच प्रथम चरण में निर्धारित 12500 फीट की ऊंचाई तक पहुंचना एक चुनौती भरा काम है. इन्हीं चुनौतियों को पार करते हुए कोटा की एक बेटी ने सफलता के झंडे गाड़े है.

कोटा की राधा राजोरा ने मनाली(Manali) स्थित अटल बिहारी वाजपेयी इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग एंड एलाइड स्पोटर्स्(Atal Bihari Bajpai Institute of Mounterring and Allied Sports) के तत्वावधान में आयोजित 25 दिवसीय पर्वतारोहण प्रशिक्षण शिविर(Mountaineering Training Camp) के दौरान बर्फीले पहाड़ों पर 12 हजार 500 फीट से अधिक ऊंचाई तय की.

पर्वातारोही राधा राजोरा ने बताया कि शिविर के प्रारम्भ में रॉक क्लाइम्बिंग, रेपलिंग, जूमारिंग, रिवर क्रासिंग एवं रेस्क्यू आदि का प्रशिक्षण दिया गया. इस दौरान बर्फीले तूफानों से बचाव, आपातकाल में मैप रीडिंग के माध्यम से गंतव्य तक पहुंचने की तकनीक से परिचित कराया गया. वहीं, सर्वाइवल नाइट के दौरान भूखे-प्यासे रहकर विपरीत परिस्थितियों में अपने आपको सुरक्षित रखने का प्रशिक्षण भी अति महत्वपूर्ण रहा.

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण का मुख्य भाग पर्वतारोहण का रहा. जिसके तहत प्रशिक्षु दल को बेस कैम्प(Base Camp) से ब्यास ग्लेशियर तक चढ़ाई करनी थी. इसके लिए प्रशिक्षु पर्वतारोही दल ने माइनस जीरो डिग्री तापमान में बर्फ के बीच गुजरते हुए लक्ष्य प्राप्त किया.

प्रथम चरण पूरा करने में हुई सफल
राजोरा के अनुसार, इस दल के साथ उन्होंने प्रथम चरण में निर्धारित 12500 फीट की ऊंचाई तक पहुंचने में सफलता हासिल की. इस दौरान उन्हें वर्ष 1993 में भारत की सबसे कम 19 वर्ष की उम्र में माउंट एवरेस्ट(Mount Everest) फतह करने वाली पर्वतारोही डिकी डोलमा(Dikky Dolma) का मार्गदर्शन मिला. कोटा की रहने वाली राधा राजोरा के इस एचिवमेंट के बाद स्थानीय लोगों को इस बेटी पर काफी ग़र्व हो रहा है.