close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

NCR में शामिल हुए अलवर-भरतपुर में पटाखे बैन, नहीं जारी हुए लाइसेंस

पटाखों के बैन से हजारों लोगो के रोजगार प्रत्यक् और अप्रत्यक्ष में फूलझड़ी, अनार चक्कर और अलग अलग तरह के रोशनी के पटाखे बिकते थे लेकिन अब बाजार बिना आतिशबाजी सामग्री के सूने नजर आ रहे हैं. 

NCR में शामिल हुए अलवर-भरतपुर में पटाखे बैन, नहीं जारी हुए लाइसेंस
देश से उन विक्रेताओं में चिंता व्याप्त है जिन्होंने माल का स्टॉक कर लिया है.

अलवर: अलवर और भरतपुर जिले को एनसीआर में शामिल होने के साथ ही इस बार भी लोग दीपावली पर आतिशबाजी के लिए पटाखे नहीं खरीद सकेंगे. वायुप्रदुषण को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्रो में पटाखो की बिक्री पर बैन लगा दिया है. अलवर और भरतपुर जिला एनसीआर में शामिल होने के कारण यहां पटाखों की बिक्री पर रोक लगाई है. 

जिला प्रशासन और जिला पुलिस इस बार भी आतिशबाज़ी के लिए पटाखों की बिक्री के लिए कोई लाईसेंस जारी नहीं करेगा. इस आदेश से उन विक्रेताओं में चिंता व्याप्त है जिन्होंने माल का स्टॉक कर लिया है. इसी संदर्भ में बाजारों में कोई पटाखे की दुकान नजर नहीं आ रही है. बानसूर मे भी पिछले दिनों व्यापारियों के पटाखो के गोदामों पर कार्यवाही कर पांच लाख रूपये के पटाखे जप्त किए हैं. 

पटाखों के बैन से हजारों लोगो के रोजगार प्रत्यक् और अप्रत्यक्ष में फूलझड़ी, अनार चक्कर और अलग अलग तरह के रोशनी के पटाखे बिकते थे लेकिन अब बाजार बिना आतिशबाजी सामग्री के सूने नजर आ रहे हैं. वहीं लोगों की चिंता भी बढ गई है. इस संदर्भ में सोमवार को बानसूर थाने पर व्यापारी बहरोड़ डीएसपी अतुल साहू से मिले और पटाखों की बिक्री के लिए गुहार लगाई.

बहरोड़ डीएसपी अतुल शाहू का कहना है कि इस बार भी सुप्रीम कोर्ट ने प्रदुषण को देखते हुए पटाखों की बिक्री पर रोक लगाई है. जिसकी पालना की जा रही है और बानसूर मे पटाखों पर सोमवार तो छापामार कार्यवाही की गयी थी लेकिन छोटे फुटकर व्यापारियों के पटाखे बिक्री के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन की ओर से कोई आदेश जारी नहीं हुए हैं. जिससे व्यापारियों को पटाखे की बिक्री की छूट दी जाए.