close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह ने ली भाजपा की सदस्यता

पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी की सदस्यता प्रदान की. इसके साथ ही 87 वर्ष के कल्याण सिंह ने सक्रिय राजनीति में वापसी कर ली है.

राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह ने ली भाजपा की सदस्यता
कल्याण सिंह बीते पांच वर्ष से उत्तर प्रदेश की सक्रिय राजनीति से बाहर थे.

नई दिल्ली: राजस्थान के पूर्व राज्यपाल व उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की फिर से सदस्यता ग्रहण कर ली. भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी की सदस्यता प्रदान की. इसके साथ ही 87 वर्ष के कल्याण सिंह ने सक्रिय राजनीति में वापसी कर ली है.

राज्यपाल पद से सेवानिवृत्त होने के बाद लखनऊ लौटने पर कल्याण सिंह का उनके समर्थकों ने जोरदार स्वागत किया. इसके बाद वह सीधे भाजपा प्रदेश मुख्यालय गए. पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने के बाद कल्याण सिंह अपने पौत्र एवं राज्यमंत्री संदीप सिंह के माल एवेन्यू स्थित आवास पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे. राजस्थान के राज्यपाल रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह के स्थान पर कलराज मिश्र को राजस्थान का गवर्नर बनाया गया है.

ज्ञात हो कि कल्याण सिंह बीते पांच वर्ष से उत्तर प्रदेश की सक्रिय राजनीति से बाहर थे. लंबे समय तक पार्टी के प्रमुख रणनीतिकार कल्याण ने आगे की भूमिका के लिए खुद को तैयार करना शुरू कर दिया है. वहीं अयोध्या में राम मंदिर निर्माण और 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कल्याण सिंह एक बड़ी भूमिका में नजर आ सकते हैं. अब कल्याण सिंह पार्टी में आगे के लिए अपनी भूमिका तैयार कर रहे हैं. 

वहीं कलराज मिश्र की बात करें तो वह इससे पहले मोदी सरकार में 2017 तक सूक्ष्‍म, लघु और उद्यम मंत्री (एमएसएमई) रहे. वह तीन बार राज्‍यसभा के भी सदस्‍य रहे. कलराज मिश्र ने 2019 के चुनाव से पहले उन्‍होंने इस बार का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान करते हुए कहा था कि पार्टी ने कई अन्‍य अहम जिम्‍मेदारियां उनको दी हैं, लिहाजा उनको पूरा करने के लिए वह चुनाव नहीं लड़ेंगे.

उल्‍लेखनीय है कि 2014 के बाद 75 साल से अधिक आयु के कई वरिष्‍ठ नेता सक्रिय राजनीति से रिटायर हो गए थे. इसी आधार पर 2017 में कलराज मिश्र ने मंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया था. आधिकारिक तौर पर कलराज मिश्र ने लोकसभा चुनाव (Lok sabha elections 2019) नहीं लड़ने का ऐलान किया था. हालांकि उस समय मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके कलराज मिश्र को हरियाणा का चुनाव प्रभारी बनाया गया था.