close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए मुंबई के गणपति मंडल, बनाई ये योजना

बृहन्मुंबई सार्वजनिक गणेशोत्सव समन्वय समिति का कहना है कि हमने मुंबई मंडलों से अपील की थी कि वे आगे आएं और अपने लोगों की जरूरत के लिए योगदान करें

महाराष्ट्र के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए मुंबई के गणपति मंडल, बनाई ये योजना
लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल और गणेश गली के मंडल का भी कहना है कि वो जल्दी ये तय कर लेंगे कि बाढ़ पीड़ितों को किस तरह आर्थिक और अन्य मदद पहुंचानी है.

मुंबई: महाराष्ट्र के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए मुंबई के गणपति मंडल आगे आए हैं. महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर, सतारा, सांगली और अन्य जिलों में बाढ़ प्रभावितों के खाने-पानी और घरेलू इस्तेमाल की चीजों के अलावा उनकी आर्थिक मदद के लिए गणेश मंडल आगे आए हैं. मुंबई के प्रसिद्ध चिंचपोकली चा चिंतामणि के चिंचपोकली सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल के अध्यक्ष उन्मेष नायक का कहना है कि गणेश भक्त ना सिर्फ बाढ़ प्रभावितों की सुरक्षा के लिए बप्पा से प्रार्थना करेंगे बल्कि मंडल के जरिए पांच लाख रुपए की आर्थिक मदद जमा कर मुख्यमंत्री राहत कोष में दी जाएगी. उनका कहना है कि जो भी गणेश भक्त स्वेच्छा से बाढ़ पीड़ितों की मदद करना चाहते हैं, वो मंडल से संपर्क कर सकते हैं.

मुंबई के तमाम गणेश मंडलों की अंब्रेला आर्गनाइजेशन बृह्नमुंबई सार्वजनिक गणेशोत्वस समन्वय समिति के अध्यक्ष नरेश दहिभावकर का कहना है कि उनकी तरफ से सभी गणेश मंडलों को अपील की गई है कि वो बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आएं. उन्होंने कहा कि एक बैठक में तय किया जाएगा कि कितना दान करना है और किस तरह मदद पहुंचानी है. इनके अलावा लालबागचा राजा सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडल और गणेश गली के मंडल का भी कहना है कि वो जल्दी ये तय कर लेंगे कि बाढ़ पीड़ितों को किस तरह आर्थिक और अन्य मदद पहुंचानी है.

 

बृहन्मुंबई सार्वजनिक गणेशोत्सव समन्वय समिति का कहना है कि हमने मुंबई मंडलों से अपील की थी कि वे आगे आएं और अपने लोगों की जरूरत के लिए योगदान करें. कई मंडल योगदान देने के लिए सहमत हुए हैं. उन्हें मंडल के समिति सदस्यों के बीच एक बैठक करनी होगी कि उन्हें कितना दान दिया जाना है. हमारा लक्ष्य 10 करोड़ इकट्ठा करने और बाढ़ वाले क्षेत्र में दान करने का है.