close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दुष्कर्म पीड़िताओं और विधवा महिलाओं को गहलोत सरकार मुहैया कराएगी निशुल्क कंप्यूटर ट्रेनिंग

विभाग की ओर से बेटियों को कम्प्यूटर से जुड़े दो कोर्स करवाए जाएंगे. आरएससीआईटी कोर्स के जरिए बेटियों को कम्प्यूटर का बेसिक कोर्स करवाएं जाएंगे. 

दुष्कर्म पीड़िताओं और विधवा महिलाओं को गहलोत सरकार मुहैया कराएगी निशुल्क कंप्यूटर ट्रेनिंग
फाइल फोटो

जयपुर: गहलोत सरकार ने दुष्कर्म पीड़िताओं और विधवा महिलाओं के लिए बडा फैसला लिया है. राज्य सरकार अब पीड़ित बेटियों या महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए निशुल्क कम्प्यूटर शिक्षा मुहैया करवाएगी. महिला अधिकारिता विभाग इंदिरा गांधी प्रियदशर्नी प्रशिक्षण एवं कौशल संवर्धन योजना शुरू कर रहा है, जिसमें प्रदेश की 75 हजार बालिकाओं को हर कम्प्यूटर का कोर्स करवाया जाएगा.

इसमें आरएससीआईटी, बेसिक कम्प्यूटर, वर्ड, एक्सएल में काम करना सिखाया जाएगा. वित्त विभाग ने इस योजना की मंजूरी दे दी है. जिसमें करीब 20 करोड़ का बजट आवंटित होगा. योजना की सबसे बड़ी बात यह है कि इसमें किसी हिंसा से पीड़ित, दुष्कर्म पीड़िता और विधवा महिलाओं को पहले प्राथमिकता दी जाएगी. इस योजना के तहत तीन महीने का कोर्स करवाया जाएगा. नवंबर के पहले सप्ताह में यह कोर्स शुरू हो जाएंगे.

विभाग की ओर से बेटियों को कम्प्यूटर से जुड़े दो कोर्स करवाए जाएंगे. आरएससीआईटी कोर्स के जरिए बेटियों को कम्प्यूटर का बेसिक कोर्स करवाएं जाएंगे. जिसमें 10वी पास होना जरूरी होगा. इस कोर्स की समयावधि तीन महीने की होगी. इसके अलावा 5000 बेटियों को वित्तिय लेखांकन प्रशिक्षण कोर्स भी सिखाया जाएगा. जिसमें कम्प्यूटर संबंधी वित्तिय गणनाओं के बारे में बताया जाएगा. कोर्स को करने के बाद खातों और लेनदेन संबंधी कार्य ऑनलाइन किए जा सकेंगे. इस योजना में 12वीं पात्रता रखी गई है. यह कोर्स दो महीने का होगा. महिला एवं बाल विकास विभाग के सचिव केके पाठक का कहना है कि प्रियदर्शनी योजना कई योजनाओं का समूह है. विभाग की प्राथमिकता है कि बेटियों को इन योजनाओं का लाभ जल्द से जल्द मिल सके.

आर्थिक तंगी के चलते जो महिलाएं या बेटियां कम्प्यूटर नहीं सीख सकती. उनके लिए यह कोर्स रोजागारोन्मुखी साबित होगा. विभाग की ओर से कोर्स पूरा होने के बाद सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा. बाजार में जहां आरएससीआईटी कोर्स की कीमत 2700 रुपए है और वित्तिय लेखांकन कोर्स की कीमत 7000 रुपए है. वहीं सरकार की ओर से यह दोनों कोर्स नि:शुल्क करवाए जाएंगे. सचिव केके पाठक का कहना है कि विभाग दूसरी योजनाओं पर भी काम कर रहा है. दूसरी योजनाओं को भी जल्द लागू किया जाएगा.

राजस्थान सरकार का ये कदम वाकई सराहनीय है. इस फैसले से ना केवल पीड़िताओं को संबंल प्रदान होगा, बल्कि उनकी उम्मीदों को भी नए पंख लग पाएंगे.