close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: पुलिस हिरासत में हुई मौतों को लेकर गहलोत सरकार गंभीर, ले रही एक्शन

प्रदेश में पुलिस हिरासत में हो रही मौत (Custodial Death )की घटनाओं को लेकर जांच शुरू की गई है.

राजस्थान: पुलिस हिरासत में हुई मौतों को लेकर गहलोत सरकार गंभीर, ले रही एक्शन
इस तरह के मामले रोकने के लिए कड़े निर्देश जारी किए गए हैं. (प्रतीकात्मक फोटो: DNA)

जयपुर: प्रदेश में पुलिस हिरासत में हो रही मौत (Custodial Death)की घटनाओं को लेकर पुलिस मुख्यालय भी गंभीर नजर आ रहा है. जिस तरह से पिछले कुछ माह के दौरान पुलिस हिरासत में मौत होने के 5 मामले सामने आए हैं उसे लेकर सरकार भी काफी गंभीर नजर आ रही है. 

पुलिस मुख्यालय(Police HeadQuarter) से एक कमेटी का गठन कर पुलिस हिरासत में हुई तमाम मौत की रिपोर्ट बनाने के लिए एक एडीजी स्तर के अधिकारी को नियुक्त किया गया है. कमेटी अपनी रिपोर्ट बनाने के बाद डीजीपी भूपेंद्र सिंह यादव( DGP Bhupendra Singh Yadav)और प्रदेश सरकार(State Government) को सौंपेगी. 

मुख्यालय दोषियों के खिलाफ ले रही एक्शन
प्रदेश में पुलिस हिरासत में हुई मौत के मामलों को लेकर एडीजी (क्राइम) बीएल सोनी का कहना है कि इस तरह की घटनाओं को लेकर पुलिस मुख्यालय काफी गंभीर है और यही कारण है कि दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ पुलिस मुख्यालय लगातार एक्शन भी ले रहा है. 

हो रही विभागीय कार्रवाई
उन्होंने बताया कि पूर्व में पुलिस हिरासत में मौत के जितने भी मामले सामने आए हैं. उनमें जो भी पुलिसकर्मी दोषी पाया गया उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा रही है. इसके साथ ही अलग से प्रकरण भी दर्ज किए गए हैं. 

बाड़मेर में आरटीआई एक्टिविस्ट के मौत की हुई जांच 
एडीजी बीएल सोनी ने यह भी बताया कि बाड़मेर के पचपदरा में पुलिस हिरासत में हुई आरटीआई एक्टिविस्ट की मौत के बाद पुलिस मुख्यालय से एडीजी स्तर के एक अधिकारी को बाड़मेर भेजा गया और साथ ही उनसे पूरे प्रकरण पर एक रिपोर्ट भी पुलिस मुख्यालय और सरकार ने मांगी है. 

घटना की पुनरावृति से बचने के लिए जारी निर्देश
प्रदेश में दोबारा ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो इसके लिए भी पुलिस मुख्यालय से आला अधिकारियों द्वारा प्रत्येक थाना स्तर पर कड़े दिशा निर्देश जारी किए गए हैं. 

पुलिस की छवि ठीक करने के लिए उठाए गए कदम
पुलिस ऐसे भी कई मामलों को लेकर लोगों के निशाने पर रही है. ऐसे में पुलिस की छवि ठीक करने और मामलों की सही जांच करवाने के लिए सरकार की तरफ से बड़ा कदम उठाया जा रहा है. ताकि आम जनता में पुलिस का इकबाल कायम रहे.

Sanjay Yadav, News Desk