close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गहलोत सरकार के मंत्री ने शस्त्र-पूजा के बाद राम मंदिर के निर्माण पर कही यह बात

विजयदशमी के अवसर पर राजस्थान सरकार (Rajasthan Government)में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास(Pratap Singh Khachriyawas)ने शस्त्र पूजन किया.

गहलोत सरकार के मंत्री ने शस्त्र-पूजा के बाद राम मंदिर के निर्माण पर कही यह बात
राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास.

जयपुर: विजयदशमी के अवसर पर राजस्थान सरकार (Rajasthan Government)में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास(Pratap Singh Khachriyawas)ने शस्त्र पूजन किया. प्रताप सिंह खाचरियावास ने इस अवसर पर राजस्थान में राम राज्य की स्थापना करने की बात कही. 

प्रताप सिंह ने बीजेपी (BJP)के जय श्री राम के नारे को चुनावी नारा बताते हुए जय सियाराम का जयघोष किया. प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा हर हिंदू चाहता है अयोध्या में राम मंदिर(Ram Temple)बने और यह कांग्रेस(Congress)पार्टी ही थी जिसने राम मंदिर के ताले खुलवाए थे लेकिन बीजेपी ने केवल राम मंदिर के मुद्दे पर राजनीति ही की है.

सरकारी बंगले पर किया शस्त्र पूजन
परिवहन मंत्री और जयपुर कांग्रेस के जिला अध्यक्ष प्रताप सिंह खाचरियावास ने आज विजयदशमी के मौके पर अपने सरकारी बंगले पर शस्त्र पूजन किया. परिवार और कांग्रेसी नेताओं कार्यकर्ताओं के साथ प्रताप सिंह खाचरियावास ने विधिवत मंत्रोच्चारण के साथ अपने ट्रेडिशनल अस्त्र और शस्त्रों को तिलक लगाकर पूजा अर्चना की. 

 

धर्म की रक्षा के लिए खड़ा रहा क्षत्रिय समाज
मीडिया से बात करते हुए प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा शस्त्र पूजन की क्षत्रिय समाज में सनातनी परंपरा रही है. धर्म की रक्षा के लिए जब जरूरत हुई है क्षत्रिय समाज हमेशा खड़ा रहा है. 

बीजेपी पर लगाया राम के नाम पर राजनीति का आरोप
उन्होंने बीजेपी पर धर्म के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए बीजेपी ने जय सिया राम के जय घोष को जय श्री राम के चुनावी नारे में बदल दिया. प्राचीन काल से परंपरा रही है कि हिंदू समाज भगवान श्रीराम के जयघोष के साथ माता सीता का नाम लेता रहा है. लेकिन बीजेपी ने अपने नारे में माता सीता को भगवान श्री राम से अलग करने का काम किया है. 

बताया क्या है असली जयघोष
खाचरियावास ने कहा कि अब कांग्रेस के नेता अब जय सियाराम का जयघोष कर बीजेपी के नेताओं को बताएंगे की असली जय घोष और उसके मायने क्या है. 

कांग्रेस प्रदेश में ला रही है रामराज्य
खाचरियावास ने यह भी कहा कि राजस्थान में कांग्रेस सभी वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाओं पर काम कर रही है और कांग्रेस का मकसद राजस्थान में राम राज्य की स्थापना करना है. ऐसा राम राज्य जिसमें चाहे कोई भी धर्म और कोई भी वर्ग हो सभी सुख और चैन के साथ जीवन बिता सकें. 

कांग्रेस ने खुलवाया राम मंदिर का ताला
खाचरियावास ने राम मंदिर के सवाल पर कहा राम मंदिर के ताले खुलवाने वाली कांग्रेस ही पार्टी थी लेकिन बीजेपी ने हमेशा राम मंदिर के मुद्दे पर वोट बैंक की राजनीति की है. हर हिंदू हर देशवासी का सपना है की राम मंदिर अयोध्या में बने और इससे बड़ी खुशी की बात क्या हो सकती है. लेकिन यह सब कानूनी और न्यायोचित तरीके से होना चाहिए. 

सतीश पूनिया पर कसा तंज
बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के कांग्रेस मुक्त राजस्थान के बयान पर प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा सतीश पूनिया मेरे मित्र हैं मैं उनको बहुत समय से जानता हूं. छात्र संघ का चुनाव मेरे सामने लड़ चुके हैं उनको ज्यादा बोलने की आदत है मैं उनको यही सलाह दूंगा कि वह अधिक बोलने से बचें. नए अध्यक्ष बने हैं पार्टी के लिए काम करें तो ज्यादा बेहतर होगा. 

निकाय और महापौर चुनाव पर रखी राय
निकाय चुनाव में निकाय प्रमुख और महापौर के सीधे चुनाव को लेकर प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि शांति धारीवाल की कमेटी को सुझाव मिल चुके हैं और जल्द ही इस संबंध में फैसला ले लिया जाएगा. बीजेपी नेता सुमन शर्मा और कांग्रेस नेता अर्चना शर्मा के बीच जुबानी जंग के सवाल पर प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा राजनीति में आरोप-प्रत्यारोप की भी एक मर्यादा होनी चाहिए.

नई राजनीति की लग रही आहट
कुल मिलाकर परिवहन मंत्री और जयपुर कांग्रेस जिला अध्यक्ष प्रताप सिंह खाचरियावास ने साफ कर दिया है कि धर्म और राष्ट्रवाद के मुद्दे पर निकाय चुनाव में बीजेपी का मुकाबला करने के लिए जयपुर कांग्रेस पूरी तरह से तैयार हैं. कोई बड़ी हैरानी की बात नहीं होगी कि जयपुर में निकाय चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस नेता भाजपा के जय श्रीराम के जयघोष के मुकाबले में जय सियाराम का नारा बुलंद करती नजर आए. यानी लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अब निकाय चुनाव की अग्निपरीक्षा से निपटने के लिए कांग्रेस के भीतर भी नए दौर और नई किस्म की राजनीति का आगाज हो रहा है.