close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

संवाद कार्यक्रम में पहुंचे राज्यपाल कलराज मिश्र, कहा एकता ही हमारी संस्कृति की ताकत

राज्यपाल ने राष्ट्रीय नीति के सांस्कृतिक आधार विषय पर बोलते हुए कहा कि एकता ही हमारी संस्कृति की ताकत है 

संवाद कार्यक्रम में पहुंचे राज्यपाल कलराज मिश्र, कहा एकता ही हमारी संस्कृति की ताकत
एकता ही हमारी संस्कृति की ताकत

जयपुर: डायलॉग फोरम की ओर से जे.एल.एन मार्ग स्थित होटल में तीन दिवसीय संवाद कार्यक्रम का आयोजन किय गया. इस कार्यक्रम का शुभारंभ राज्यपाल कलराज मिश्र ने दीप प्रज्जवलित कर किया. कार्यक्रम में राज्यपाल कलराज मिश्र ने राष्ट्रीय नीति के सांस्कृतिक आधार विषय पर बोलते हुए कहा कि एकता ही हमारी संस्कृति की ताकत है.विश्व हमारा है और हम विश्व के हैं. इस विशालता का अनुभव भारत ने विश्व को कराने में सफलता हासिल की है.उपभोग में संयम, वितरण में समानता, प्रकृति से संतुलन व आपसी सद्भाव से ही राष्ट्र का विकास होता है.देश आगे बढ़ता है और यही पक्ष राष्ट्रीय नीति के लिए सांस्कृतिक आधार है.

राज्यपाल कलराज मिश्र के अनुसार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पंडित दीनदयाल की सोच का आधार सांस्कृतिक था.आपसी सहयोग व सद्भाव ही भारतीय संस्कृति की पहचान है.एक-दूसरे की कुशलता का ध्यान रखना, शौर्य बढ़ाना, ईष्या मिटाना और प्रकृति का सम्मान करना भारतीयता है.यदि हम परोपकार करेंगे तो पुण्य प्राप्त होगा और किसी को कष्ट देंगे तो पाप के भागीदार बनेंगे.हमे उतना ही उपभोग करना है.जितना हमें आवश्यक है.आवश्यकता से अधिक समाज के लिए छोड़ देना चाहिए.

कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल ने भारतीय संस्कृति को विश्व की सर्वश्रेष्ठ संस्कृति बताते हुए कहा कि विदेशों की संस्कृतियां समय के साथ नष्ट हो गई.जबकि भारत पर विदेशी आक्रमणकारियों ने हमला कर यहां की संस्कृति को मिटाने के प्रयास किए.लेकिन वो कामयाब नहीं हो पाए.यहां वसुधैव कुटुम्बकम की भावना है.जिसके चलते सब आपस में जुड़े हुए हैं.आज वापस भारत विश्वगुरू बनने की ओर अग्रसर है.