close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कहानी फिल्मी नहीं रियल है, पत्नी की हत्या के आरोप में जेल में है पिता, बच्चे की परवरिश कर रही पुलिस

वडोदरा में पुलिस एक ऐसे बच्‍ची का पालन-पोषण कर रही है, जिसके पि‍ता को पुलिस ने अपनी पत्‍नी की हत्‍या के आरोप में गिरफ्तार किया था.

कहानी फिल्मी नहीं रियल है, पत्नी की हत्या के आरोप में जेल में है पिता, बच्चे की परवरिश कर रही पुलिस
गुजरात पुलिस का मानवीय चेहरा बन रहा मिसाल.

वडोदरा: 70-80 के दशक की कई बॉलीवुड फिल्मों में आपने देखा होगा कि पिता किसी मुकदमे में जेल चला जाता है तो पुलिस वाले बच्चे की परवरिश करते हैं, वडोदरा में ऐसी ही सच्ची घटना सामने आई है. यहां पुलिस एक ऐसे बच्‍ची का पालन-पोषण कर रही है, जिसके पि‍ता को पुलिस ने अपनी पत्‍नी की हत्‍या के आरोप में गिरफ्तार किया था.

उल्‍लेखनीय है कि करीब 18 महीने पहले वडोदरा के गाजरवाडिया इलाके में रहने वाली कंकु देवीपूजक नामक महिला का शव पुलिस ने बरामद किया था. वारदात से करीब 18 महीने बाद आई बिसरा रिपोर्ट के जरिए पुलिस को यह पता चला कि महिला की हत्‍या की गई है. प्रारंभिक जांच के दौरान, पुलिस को मृतक महिला के पति भरत देवीपूजक पर शक हुआ. जिसके आधार पर पुलिस ने भरत देवीपूजक से पूछताछ शुरू की.

पुलिस के अनुसार, पूछताछ के दौरान भरत देवीपूजक ने हत्‍या की बात कबूल कर ली. जिसके बाद, पुलिस ने आरोपी भरत देवीपूजक को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया. इसी बीच, वडोदरा पुलिस को पता चला कि आरोपी भरत देवी पूजक का एक बेटा भी है, जो आठवीं कक्षा में पढ़ता है. मां की हत्‍या और पिता के जेल जाने के बाद इस बच्‍चे की देररेख करने वाला कोई नहीं है.

लाइव टीवी देखें-:

इसके बा वड़ोदरा पुलिस ने इस बच्‍चे के पालन-पोषण की जिम्‍मेदारी अपने कंधों पर लेने का फैसला किया. अब वडोदरा पुलिस इस बच्‍चे के मां और पिता की जिम्‍मेदारी खुद उठा रही है. इस बच्चे को पुलिस स्टेशन में ही एक कमरा उपलब्‍ध कराया यगा है. जहां रहकर यह बच्‍चा अब अपनी पढ़ाई पूरी कर रहा है. इस बच्‍चे की पढ़ाई से लेकर खाने-पीने तक की सभी जिम्‍मेदारी खुद वडोदरा पुलिस उठा रही है.

वडोदरा ई डिवीजन के एसीपी एसजी पाटिल के अनुसार, पुलिस थाने में ही बच्चे के लिए सभी तरह की व्यवस्था की गयी है. उनके अनुसार, जबतक बच्चा उनके साथ रहना चाहता है,वो रहेगा,बाद में उसे किसी सामाजिक संस्था को सौंप दिया जाएगा.