close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डूंगरपुर में मुसलाधार बारिश का दौर जारी, लोगों का जीवन हुआ अस्त-व्यस्त

झालावाड़ के पिड़ावा क्षेत्र में भी बारिश का दौर कल से जारी है. चंवली नदी ने भी कई सालों बाद अपना रौद्र रूप दिखाया है.

डूंगरपुर में मुसलाधार बारिश का दौर जारी, लोगों का जीवन हुआ अस्त-व्यस्त
सड़कों पर पानी का सैलाब आने के करण लोगों का धर से निकलना दुर्भर हो गया है.

डूंगरपुर: राजस्थान के डूंगरपुर जिले में बारिश का दौर लगातार जारी है. भारी बारिश से इलाके में सड़कों पर पानी भरा हुआ है. सड़के तालाब में तब्दील हो चुकी हैं. उधर नदी नालों में भी पानी की भारी आवक हो रही है. सागवाड़ा क्षेत्र में लिमडी-घोटाद की सम्पर्क पुलिया पर 3 से 4 फिट पानी की चादर चल रही है. लेकिन इसके बावजूद भी लोग जान जोखिम में डाल कर पुलिया पार कर रहे हैं.

मानसून में भारी बारिश से पूरे प्रदेश के नदी नालों में भारी पानी की आवक हो रही है. अभी भी बारिश को दौर लगातार जारी है. भारी बारिश से लोगों का जन-जीवन पूरी तरह से अस्त-वयस्त हो चुका है. अभी भी भारी बारिश से लोगों को निजात मिलने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं. हालात ये हैं की सड़कों पर पानी भरा है. यहां तक की क्षेत्र के पुलिया पर तीन से चार फीट तक पानी की चादर चल रही है. लेकिन इसके बावजूद भी लोग अपनी जान जोखिम में डाल कर पुलिया पार करने से बाज नहीं आ रहे हैं.

जाहिर है जिस तरीके से लोग पानी की भारी आवक के बीच अपनी जान जोखिम में डाल कर पुलिया पार कर रहे हैं. इससे कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है. लेकिन इसके बावजूद भी लोग पुलिया पार करने से नहीं मान रहे हैं. जिले के सागवाड़ा इलाके में लिमड़ी घोटाद पुलिया पर तीन से चार फीट पानी की चादर चल रही है लेकिन लोग पुलिया से गुजरते हुए नजर आए. लोगों की इस हरकत पर प्रशासन भी मौन बैठा है और किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. जिससे लोगों की जान खतरे में है. 

जाहिर है पानी की भारी आवक के बीज पुलिया पार करते हुए कई हादसे हाल ही में सामने आ चुके हैं लेकिन इसके बाद भी लोग जंहा अपनी जान से खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे हैं वहीं प्रशासन भी लापरवाह बना हुआ है.

वहीं राजस्थान के दूसरे इलाकों की बात करें तो झालावाड़ के पिड़ावा क्षेत्र में भी बारिश का दौर कल से जारी है. चंवली नदी ने भी कई सालों बाद अपना रौद्र रूप दिखाया है. लोगों की माने तो क्षेत्र में तीन दशकों के बाद ऐसे हालात देखने को मिले है. सड़कों पर पानी का सैलाब आ गया है. कई बसें सड़को पर फंसी हुई है. सड़कों पर पानी का सैलाब आने के करण लोगों का धर से निकलना दुर्भर हो गया है. 

 

बता दें कि, राजस्थान में बाढ़ और बारिश से बिगड़े हालात पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को सीएमओ में एक हाईलेवल बैठक बुलाई. बैठक में सीएम गहलोत ने सबसे ज्यादा बारिश से प्रभावित इलाकों में सरकार की ओर से चलाए जा रहे राहत बचाव कार्यों की समीक्षा की. साथ ही सीएम गहलोत ने निर्देश दिए हैं कि बाढ़ प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाए. बारिश प्रभावित जिलों के प्रभारी सचिव को हालात का जायजा लेने और राहत कार्यों की निगरानी के भी निर्देश दिए हैं.