हिमाचल के स्कूलों में दूसरी कक्षा से पढ़ाई जाएगी संस्कृत, सिलेबस को मिली मंजूरी

धर्मशाला में आयोजित बोर्ड बैठक में शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में गुणवत्‍तपूर्ण व संस्‍कारयुक्‍त शिक्षा प्रदान करने के लिए शैक्षणिक विषयों पर विशेष रूप से विचार किया गया है.

हिमाचल के स्कूलों में दूसरी कक्षा से पढ़ाई जाएगी संस्कृत, सिलेबस को मिली मंजूरी
प्रतिकात्मक तस्वीर.

धर्मशाला: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के स्कूलों में अब दूसरी कक्षा से ही छात्रों को संस्कृत की शिक्षा दी जाएगी. राज्य की शिक्षा बोर्ड ने सिलेबस को भी स्‍वीकृति प्रदान कर ही है. इसके अलावा प्रदेश में अब डम्‍मी एडमिशन (Dummy Admission) करने पर स्‍कूलों की संबद्धता समाप्‍त कर दी जाएगी. मंगलवार को आयोजित शिक्षा बोर्ड बैठक में प्रदेश शिक्षामंत्री (Education Minister) सुरेश भारद्वाज (Suresh bhardwaj) ने यह जानकारी दी. 

उन्‍होंने बताया कि आजकल बहुत से स्कूल डम्मी एडमिशन करते हैं और बच्चे बाहर जाते हैं. ऐसे कार्यों को रोकने के लिए शिक्षा बोर्ड सरविलेंस कमेटी बनाएगी. कोई विद्यालय ऐसी गतिविधियों में संलिप्त पाया जाता है तो उसकी संबद्धता समाप्त कर दी जाएगी. इसके अतिरिक्त जहां पहले 40 बच्चों पर एक इनविजिलेटर लगाया था. लेकिन कमरे छोटे होने के कारण 40 बच्‍चे नहीं बैठ पाते थे. इसके मद्देनजर अब 25 बच्चों पर एक इनविजिलेटर रखा जाएगा.

धर्मशाला में आयोजित बोर्ड बैठक में शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में गुणवत्‍तपूर्ण व संस्‍कारयुक्‍त शिक्षा प्रदान करने के लिए शैक्षणिक विषयों पर विशेष रूप से विचार किया गया है. इसके लिए सिलेबस में भी परिवर्तन किया जाएगा. शिक्षा मंत्री ने संस्‍कृत को दूसरी कक्षा से शुरू करने के लिए सिलेबस को स्‍वीकृति प्रदान कर दी. बैठक में एससीईआरटी सोलन द्वारा बनाए गए शतरंग और योग के सिलेबस को भी मंजूर किया गया है.

मंत्री सुरेश भारद्वाज ने खुशी जाहिर करते हुए बताया बताया कि प्रिंटिंग के टेंडर में इस बार अच्छा कागज लेकर पिछले वर्षों की अपेक्षा 3 करोड़ रुपये की बचत की गई है. जो कागज पहले 77 हजार रुपये प्रति मीट्रिक टन लिया जाता था, उसे इस वर्ष 69 हजार प्रति मीट्रिक टन लिया गया है.

पत्रकारों द्वारा पूछे गए 500 प्राइमरी स्कूलों में कमरों की कमी पर शिक्षा मंत्री ने कहा कि इतनी कमी तो नहीं है, लेकिन जो थोड़ी बहुत कमी है, उस पर कार्य किया जा रहा है. जहां एक कमरा है, वहां दूसरा कमरा जोड़ने के लिए सरकार प्रयास कर रही है.

ये वीडियो भी देखें:

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.