हिमाचल में भीषण सड़क दुर्घटना का शिकार हुई बस, 8 यात्रियों की मौत

दुर्घटना में कुल आठ लोगों की मृत्यु हुई है, जिसमें से 6 लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गई, जबकि दो की मृत्यु सोलन अस्पताल में इलाज के दौरान हुई. 

हिमाचल में भीषण सड़क दुर्घटना का शिकार हुई बस, 8 यात्रियों की मौत
बस दुर्घटना के बाद क्षतिग्रस्त बस के पास लोगों की भीड़. (ANI/13 May, 2018)

शिमला: हिमाचल के सोलन के साथ लगते सिरमौर जिले के नईनेटी में रविवार (13 मई) की सुबह एक निजी बस दुर्घटना में आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि 13 यात्रियों के घायल होने की खबर है. घायलों को सोलन क्षेत्रीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जिसमें से गंभीर रूप से घायल तीन लोगों को पीजीआई चण्डीगढ़ के लिए रैफर कर दिया गया है. सूत्रों के अनुसार दुर्घटना में कुल आठ लोगों की मृत्यु हुई है, जिसमें से 6 लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गई, जबकि दो की मृत्यु सोलन अस्पताल में इलाज के दौरान हुई. 

प्राप्त जानकारी के अुनसार यह निजी बस पुनकूफर से सोलन आ रही थी कि नईनेटी के समीप बस दुर्घटनाग्रस्त हो गई. बस में 24 यात्री सवार बताए जा रहे हैं. पुलिस एवं स्थानीय लोगों की सहायता से घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया. राजगढ़ पुलिस ने मामला दर्ज करके दुर्घटना के कारणों की जांच शुरू कर दी है.

पच्छाद के विधायक सुरेश कश्यप ने सोलन क्षेत्रीय अस्पताल का दौरा किया व घायलों का हालचाल पुछा. विधायक सुरेश कश्यप ने हमारे संवाददाता से बात करते हुए कहा कि बस दुर्घटना की जांच की जायेगी. सुरेश कश्यप ने बताया कि दो लोग बस के नीचे दबे हुए थे, उन्हें भी बाहर निकाल लिया गया है. उन्होने कहा कि घायलों एवं मृतकों की परिजनों की हर संभव सहायता की जायेगी. उन्होंने कहा कि उनके जिला में अधिकांश सड़कें कच्ची हैं और उनकी स्थिति ठीक नहीं है, जिसके कारण आए दिन हादसे होते रहते हैं. उन्होंने कहा सड़कों की दशा सुधारने की ओर सरकार प्रयास करेगी. 

अतिरिक्त आयुक्त विवेक चंदेल ने बताया कि 13 घायलों को सोलन अस्पताल में लाया गया है जिनमें से दो की मृत्यु हो गई. उन्होंने कहा कि सोलन जिला प्रशासन द्वारा फोरी राहत के तौर पर गंभीर रूप से घायलों को दस हजार रुपये व घायलों को 6000 रुपये की सहायता प्रदान की गई है. इसके अलावा घायलों का निःशुल्क इलाज किया जा रहा है. विवेक चंदेल ने बताया कि प्रशासन घायलों की हर संभव सहायता कर रही है. पूर्व पंचायत सदस्य उषा ठाकुर ने बताया कि हादसा सड़क की दुर्दशा के कारण हुआ. सरकारें उनकी मांग की ओर कोई ध्यान नहीं देती. उन्होंने कहा कि इससे पूर्व में ऐसा हादसा हुआ था उस समय भी लोगों ने सड़क की दशा सुधारने की मांग की थी.