भाईचारा: मुसलमान पड़ोसियों ने हिंदू महिला का पूरे रीति-रिवाज से किया अंतिम संस्कार

बांदीपोरा के कलोसा की रहने वाली मृतक महिला की स्वाभाविक मौत बुधवार रात को हो गई. गुरुवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया. 

 भाईचारा: मुसलमान पड़ोसियों ने हिंदू महिला का पूरे रीति-रिवाज से किया अंतिम संस्कार
बांदीपोरा. (फाइल फोटो)

कश्मीर: कोरोना (Corona) संकट के बीच कश्मीर में एक बार फिर हिंदू-मुस्लिम भाईचारा देखने को मिला है. यहां एक मुस्लिम परिवार ने 75 वर्षीय हिंदू महिला की पूरे रीति-रिवाज से अंतिम संस्कार कर भाईचारे की मिसाल पेश की है.
 
चश्मदीदों ने बताया कि 75 वर्षीय महिला रानी भट्ट की मौत की खबर के तुरंत बाद, मुस्लिम पड़ोसी कश्मीरी पंडित परिवार की मदद के लिए आगे आए.

ये भी पढ़ें- बुखार से तड़पता रहा कोरोना मरीज, नहीं मिला बेड; अस्पताल के बाहर तोड़ा दम

बांदीपोरा के कलोसा की रहने वाली मृतक महिला की स्वाभाविक मौत बुधवार रात को हो गई. गुरुवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया. मुस्लिम पड़ोसियों ने उनका अंतिम संस्कार हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार किया. मृतक महिला और उनके पति मोती लाल भट्ट कश्मीर घाटी में आतंकवाद के कारण विस्थापित नहीं हुए थे. वे मुस्लिम पड़ोसियों के साथ गांव में रहने वाले एकमात्र कश्मीरी पंडित परिवार हैं.

इस घटना ने एक बार फिर बता दिया है कि कश्मीर में अभी भी भाईचारा जिंदा है और आम आदमी आज भी राजनीति और आतंकवाद से परे अपना फर्ज निभाना नहीं भूलता है.