राजस्थान: ज़ी मीडिया की मुहिम का असर, अब आमेर मावठा होगा पानी से लबालब

अब आमेर मावठा सरोवर में रविवार से रोजाना 1500000 लीटर बांध का पानी सप्लाई हो सकेगी. जलदाय विभाग ने आमेर के मावठे को बीसलपुर के पानी से भरने के लिए पाइपलाईनों की टेस्टिंग का काम पूरा कर लिया है.

राजस्थान: ज़ी मीडिया की मुहिम का असर, अब आमेर मावठा होगा पानी से लबालब
जयपुर का आमेर मावठा. (फाइल फोटो)

जयपुर: एक बार फिर से भी मीडिया की मुहिम रंग लाई. अब आमेर मावठा सरोवर में रविवार से रोजाना 1500000 लीटर बांध का पानी सप्लाई हो सकेगी. जलदाय विभाग ने आमेर के मावठे को बीसलपुर के पानी से भरने के लिए पाइपलाईनों की टेस्टिंग का काम पूरा कर लिया है. 

बताया जा रहा है कि ब्रह्मपुरी पम्प हाउस से 10 इंच की पाइपलाईन से मावठे को कल से रोजाना 15 लाख लीटर पानी की आपूर्ति की जाएगी. मावठे की वर्तमान में भराव लगभग 1250 लाख लीटर है. रामनिवास बाग पम्पिंग स्टेशन से ब्रह्मपुरी को रोजाना 220 लाख लीटर पानी मिलता है. अब उसे बढाकर 235 लाख लीटर पानी दिया जावेगा.

LIVE TV देखें:

आमेर शहर को जारी रहेगी पानी की आपूर्ति
इसके अलावा आमेर शहर को पहले की तरह 25 लाख लीटर पानी की आपूर्ति जारी रहेगी. इसके अलावा आमेर शहर में भी पेयजल आपूर्ति में सुधार के लिये बिलोनिया गांव के पुराने नलकूपों को चालू किया जा रहा है. 

6 नलकुपों से मिलता था पानी
आपको बता दें कि आमेर शहर को पहले बिलोनिया गांव में खुदे 06 नलकूपों से पानी मिलता था. बीसलपुर का पानी मिलने के बाद नलकूपों को बन्द कर दिया गया था. विभाग ने इन नलकूपों को चालू कर लिया है एवं पुरानी 12 इंच की सीमेन्ट की पाइपलाईन की टेस्टिंग का काम भी लगभग पूरा कर लिया है. इन नलकूपों से भी 08 लाख लीटर अतिरिक्त पानी आमेर शहर को दिया जाएगा, जिससे आमेर शहर की पेयजलापूर्ति में भी सुधार होगा.

बढ़ेगा कॉलोनियों का जलस्तर
जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियन्ता देवराज सिंह सोलंकी ने बताया, ''आमेर शहर को ब्रह्मपुरी पम्प हाउस से 10 इंच की डी.आई. पाइपलाईन से रोजाना बीसलपुर का 27 लाख लीटर पानी दिया जाता है. इसी पाईपलाइन से 15 लाख लीटर अतिरिक्त पानी मावठे को भरने के लिये शाम 06 बजे से छोड़ा जाएगा. 80 से 90 दिन में मावठे को पूरा भर दिया जाएगा. मावठे में पानी भरने के बाद आमेर शहर की कई कॉलोनियों में भूजल का स्तर भी बढे़गा जिससे स्थानीय हैण्डपम्पों एवं नलकूपों में भी पानी की आवक बढे़गी."