close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान निकाय चुनाव की हुई घोषणा, 32 लाख मतदाता चुनेंगे शहरी सरकार

राजस्थान में निकाय चुनाव(Rajasthan Urban Body Elections 2019) घोषणा के साथ शुक्रवार से प्रदेश में आचार संहिता(Model Code of Conduct) लागू हो गई है.

राजस्थान निकाय चुनाव की हुई घोषणा, 32 लाख मतदाता चुनेंगे शहरी सरकार
जयपुर में प्रेस वार्ता के दौरान राज्य निर्वाचन आयुक्त पीएस मेहरा.

जयपुर: राजस्थान में निकाय चुनाव(Rajasthan Urban Body Elections 2019) घोषणा के साथ शुक्रवार से प्रदेश में आचार संहिता(Model Code of Conduct) लागू हो गई है. इस अवधि में किसी भी प्रकार की राजनीतिक घोषणाएं करने से नेताओं को बचना होगा.

राजधानी जयपुर(Jaipur) में राज्य निर्वाचन आयुक्त पीएस मेहरा की प्रेसवार्ता में इसकी जानकारी दी. उन्होंने बताया कि चुनाव प्रचार से संबंधित लाउडस्पीकर, वाहनों पर रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक रोक लगी रहेगी. इसके अलावा नगर निगम में चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को 3, परिषद के लिए चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को 2 और नगरपालिका में प्रचार के लिए प्रत्याशियों को 1 वाहन के प्रयोग की अनुमति मिलेगी.

17 नवंबर को होगी वोटिंग
उन्होंने यह भी बताया कि 17 नवंबर को सुबह 7 बजे से शाम 5 बजे तक मतदान होगा. वहीं, 19 नवंबर को मतगणना होगी. उन्होंने यह भी बताया कि राज्य 49 निकायों, 3 नगर निगम, 28 नगर पालिका, 18 नगर परिषद में चुनाव होंगे. उन्होंने बताया कि 49 निकायों में 32 लाख 99337 मतदाता अपने शहरी सरकार के प्रतिनिधियों का चुनाव करेंगे. 

नहीं प्रभावित होंगे विकाय कार्य
उन्होंने यह भी बताया कि जिनके वर्क आर्डर जारी किए जा चुके वो प्रभावित नहीं होंगे. उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश में नए विकास कार्य शुरू नहीं हो सकते हैं. विभाग ने प्रदेशवासियों से शांतिपूर्ण मतदान की अपील की है. 

धार्मिक स्थलों का नहीं हो सकेगा उपयोग
उन्होंने बताया कि किसी भी दल या उम्मीदवार को ऐसा कोई कार्य नहीं करना चाहिए जिससे किसी धर्म संप्रदाय जाति के लोगों की भावना को ठेस पहुंचे. उन्होंने कहा कि निर्वाचन प्रचार के लिए मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, गिरजाघर आदि का उपयोग नहीं कर सकेंगे.

सरकारी वाहनों पर रहेगी रोक
उन्होंने यह भी बताया कि मतदान से 48 घंटे पहले सार्वजनिक सभा करने पर रोक रहेगी. उन्होंने कहा कि आचार संहिता लागू होने पर सरकारी वाहनों का उपयोग नहीं किया जा सकेगा. इस अवधि में सरकार कोई भी घोषणा ही नहीं कर सकेगी.उन्होंने कहा कि आचार संहिता की अवधि में किसी काम के लिए वित्तीय मंजूरी भी नहीं मिल सकेगी. साथ ही निर्वाचन से जुड़े अधिकारियों के तबादले नहीं हो सकेंगे.

बीकानेर में हैं सबसे ज्यादा मतदाता
आपको बता दें कि सबसे ज्यादा मतदाता निकाय चुनाव के दौरान राजस्थान के बीकानेर नगर निगम में सबसे ज्यादा मतदाता मतदान करेंगे. वहीं, सबसे कम मतदाता नसीराबाद में हैं.

मतदान के लिए 12 दस्तावेज मान्य
उन्होंने यह भी बताया कि मतदान के लिए वोटरों के लिए 12 वैकल्पिक दस्तावेज मान्य हैं. इसके अलावा मतदाताओं की सहायता के लिए मतदाता सहायता केंद्र भी बनाए गए हैं. उन्होंने बताया कि 20 हजार कर्मचारी कराएंगे चुनाव और मतगणना कार्य में शामिल रहेंगे. उन्होंने बताया कि इस दौरान 20 हजार पुलिसकर्मियों तैनाती होगी.

ऑब्ज़र्वर के रुप में अधिकारी रहेंगे तैनात
उन्होंने बताया कि आईएएस, सीनियर राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को ऑब्ज़र्वर के रुप में तैनात किया जाएगा. प्रेस वार्ता के दौरान निर्वाचन विभाग के सचिव श्याम सिंह राजपुरोहित और उप सचिव अशोक जैन भी मौजूद रहे.