close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंद्रजीत महांति को राजस्थान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की राज्यपाल ने दिलाई शपथ

शपथ ग्रहण समारोह में मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने राष्ट्रपति की ओर से जारी सीजे का नियुक्ति वारंट पढ़ा.

इंद्रजीत महांति को राजस्थान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की राज्यपाल ने दिलाई शपथ
मुख्य न्यायाधीश को शपथ दिलातें राज्यपाल कलराज मिश्र.

महेश पारीक, जयपुर: उड़ीसा हाईकोर्ट (Orissa High Court)के वरिष्ठ न्यायाधीश इंद्रजीत महांति(Indrajeet Mahanti) राजस्थान हाईकोर्ट (Rajasthan High Court) के 37वें मुख्य न्यायाधीश बन गए हैं. राज्यपाल कलराज मिश्र(Kalraj Mishra)ने राजभवन में आयोजित समारोह में जस्टिस महांति को मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ दिलाई. समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत(Ashok Gehlot) सहित कई मंत्री और हाईकोर्ट के न्यायाधीश मौजूद रहे.

मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति के बाद हाईकार्ट में जजों की संख्या बढक़र 22 हो गई है. शपथ ग्रहण समारोह में मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने राष्ट्रपति की ओर से जारी सीजे का नियुक्ति वारंट पढ़ा.
 
शपथ ग्रहण के बाद मुख्य न्यायाधीश ने एक ओर प्रदेश की न्यायपालिका में पारदर्शिता(Transparency in Judiciary)की बात कहीं, वहीं न्यायपालिका को जनता के प्रति जवाबदेही भी बताया. उन्होंने भगवान का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि उन्हें यह पद सुविधाएं लेने के लिए नहीं मिला है, वे प्रयास करेंगे कि समाज के आखिरी व्यक्ति तक न्याय पहुंचे. उन्होंने कहा कि समस्या हर जगह होती है, कहीं कम तो कहीं अधिक, लेकिन हमें उसे दूर करने के प्रयास लगातार करते रहना चाहिए.

 

 
जजों की संपत्ति सार्वजनिक करने के सवाल पर सीजे महांति ने कहा कि सबसे बडी चुनौती न्यायपालिका में पारदर्शिता की है. वे अपने साथी जजों से चर्चा कर इस दिशा में कदम उठाएंगे.

उन्होंने कहा कि आज न सिर्फ न्यायपालिका पर मुकदमों का बोझ है, बल्कि कई दशकों से लंबित मुकदमों का भी समय पर निस्तारण नहीं हो रहा है. सीजे महांति ने कहा कि पारदर्शिता के साथ ही जनता के प्रति जवाबदेहिता और ब्लॉक स्तर पर न्यायापालिका के डिजिटलाइजेशन की दिशा में भी काम करना है. उन्होंने कहा कि इसके लिए वे न सिर्फ सरकार और राज्यपाल से सलाह लेंगे, बल्कि समय-समय पर मीडिया से भी आजजन की समस्याओं का फीड बैक लेंगे.

सीजे का पद संभालने के बाद इंद्रजीत महांति प्रदेश की न्यायपालिका के मुखिया बन गए हैं. एक ओर निचली अदालतों में मुकदमों का अंबार तो दूसरी ओर न्यायाधीशों के खाली पद, समस्याएं कम नहीं है. देखने वाली बात है कि सीजे महांति के विजन से अब प्रदेश की न्यायपालिका के दिन कब तक बदलेंगे.