जम्मू: पाक की गोलीबारी में 8 महीने के बच्चे की मौत, 6 घायल

अधिकारियों ने बताया कि नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कई इलाकों में सीमा पार से गोलीबारी की गयी जिसका भारतीय सैनिकों ने माकूल जवाब दिया. 

जम्मू: पाक की गोलीबारी में 8 महीने के बच्चे की मौत, 6 घायल
बीएसएफ से गोलीबारी रोकने की ‘‘अपील’’ करने के एक दिन बाद पाकिस्तान की ओर से यह गोलाबारी शुरू हुई.(फाइल फोटो)

जम्मू: पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू जिले में सीमा चौकियों और गांवों को मोर्टार के गोलों एवं छोटे हथियारों से निशाना बनाया जिससे आठ महीने के एक बच्चे की मौत हो गयी और एक विशेष पुलिस अधिकारी सहित छह लोग घायल हो गए. अधिकारियों ने बताया कि नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर कई इलाकों में सीमा पार से गोलीबारी की गयी जिसका भारतीय सैनिकों ने माकूल जवाब दिया. आठ महीने का नितिन कुमार नियंत्रण रेखा पर पल्लनवाला सेक्टर में अपने घर के बाहर अपने परिवार के साथ सो रहा था जब पाकिस्तान की गोलीबारी में उसकी मौत हो गयी,जबकि अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की गोलीबारी में एक विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) सहित छह लोग घायल हो गए हैं.

एक जवान एवं चार आम नागरिकों की मौत
इससे पहले जम्मू जिले में दो दिन पहले पाकिस्तान की गोलीबारी में बीएसएफ के एक जवान एवं चार आम नागरिकों की मौत हो गई थी. जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार के गोलीबारी में प्रभावित हुए कुछ लोगों से मिलीं और घटनाओं को ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ बताया. उन्होंने कहा कि गोलीबारी ऐसे समय में हुई जब रमजान का महीना शुरू ही हुआ और राज्य के लोगों ने पाक महीने में राज्य में सुरक्षा संबंधी अभियानों पर एकतरफा रोक की केंद्र सरकार की घोषणा के बाद राहत की सांस ली थी.

सीमा पार से सुबह करीब सात बजे से मोर्टार से गोले दागने शुरू हुए
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि रमजान के पाक महीने में लोगों की जान लेकर पाकिस्तान ने पाक महीने का ‘‘अनादर किया है.’’ बीएसएफ ने बताया कि सीमा पार से सुबह करीब सात बजे से मोर्टार से गोले दागने शुरू हुए. पाकिस्तान की गोलाबारी में विक्रम, चिनाज और जबोवाल की सीमा चौकियां प्रभावित हुईं. बीएसएफ के एक अधिकारी ने कहा कि सीमा की सुरक्षा में तैनात बीएसएफ के जवानों ने जवाबी कार्रवाई की और दोनों पक्षों के बीच गोलीबारी का आदान प्रदान दोपहर करीब दो बजे रूका. पाकिस्तान रेंजर्स ने अरनिया कस्बे में मोर्टार के गोले बरसाए जिनमें से एक पुलिस थाने पर गिरा जिससे उसकी दीवार और बाहर खड़े कुछ वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. 

भारी गोलीबारी से स्थानीय लोगों के बीच भय उत्पन्न हो गया
भारी गोलीबारी से स्थानीय लोगों के बीच भय उत्पन्न हो गया और उन्होंने अपने घर खाली करने शुरू कर दिए. बीएसएफ से गोलीबारी रोकने की ‘‘अपील’’ करने के एक दिन बाद पाकिस्तान की ओर से यह गोलाबारी शुरू हुई. कल बीएसएफ की कार्रवाई में उनका एक जवान मारा गया था जिसके बाद उन्होंने यह अपील की थी. जम्मू के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विवेक गुप्ता ने बताया कि अरनिया में पाकिस्तान की ओर से की जा रही गोलेबारी में 62 साल की एक महिला दर्शना देवी और एक एसपीओ सहित छह लोग घायल हो गए.

उन्होंने कहा कि एहतियाती उपाय के तौर पर सीमा के पांच किलोमीटर के दायरे में स्थित सभी स्कूल बंद कर दिए गए. गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में इस साल अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी और गोलेबारी की घटनाएं बढ़ी हैं. सीमा पार से गोलीबारी और गोलेबारी की 700 से अधिक घटनाओं में 18 सुरक्षा कर्मियों सहित 38 लोग मारे गए तथा सैकड़ों घायल हुए हैं. 

इनपुट भाषा से भी