close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब पानी के रास्ते घुसपैठ की फिराक में लगा पाकिस्तान, LoC के लॉन्च पैड पर देखी गई रबड़ की नाव

खुफिया एजेंसियों का दावा है कि पाकिस्तानी आतंकी पानी के रास्ते रबड़ की इन्हीं नावों के जरिए घुसपैठ कर सकते हैं.

अब पानी के रास्ते घुसपैठ की फिराक में लगा पाकिस्तान, LoC के लॉन्च पैड पर देखी गई रबड़ की नाव
फाइल फोटो.

नई दिल्लीः खुफिया एजेंसियों ने भारतीय सुरक्षा बलों को अंतरराष्ट्रीय सीमा (International Border) और लाइन ऑफ कंट्रोल (Line of Control) के पास पानी के रास्तों पर पेट्रोलिंग बढ़ाने के लिए कहा है. खुफिया एजेंसियों ने LoC और IB के पास विभिन्न लॉन्च पैड्स पर रबर की छोटी नौवों को देखा है. खुफिया एजेंसियों का दावा है कि पाकिस्तानी आतंकी पानी के रास्ते रबड़ की इन्हीं नावों के जरिए घुसपैठ कर सकते हैं.

जम्मू कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास 13 छोटे जल निकायों (पानी के रास्तों) को चिन्हित किया गया है. जिनमें अखनूर, सांबा और कठुआ शामिल है. इसके अलावा कश्मीर के गुरेज सेक्टर को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है.

ऐसी खबर है कि आतंकी घुसपैठ के लिए कृष्णा घाटी के रास्ते का भी इस्तेमाल कर सकते है. 2011 में भी आतंकवादी ने उसी तरह घुसपैठ की थी लेकिन उस कोशिश को नाकाम कर दिया गया था

बता दें कि पहले यह खुफिया एजेंसियों द्वारा बाधित किया गया है कि समुद्री मार्ग का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन अब एजेंसियों ने यह भी चेतावनी दी है कि आतंकवादी घुसपैठ के लिए अंतरराष्टीय सीमा और एलओसी के पास छोटे जल निकायों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

समंदर के रास्ते भारत में दाखिल होने की फिराक में 50 आतंकी
आतंकी भारत में अशांति फैलाने के लिए अलग-अलग तरकीब पर काम कर रहे हैं. सीमा पर सेना की मुश्तैदी के बाद आतंकी समुद्र के रास्ते भारत में दाखिल होने की फिराक में हैं. BSF सूत्रों के हवाले से खबर है कि जैश-ए-मोहम्मद (Jaish A Mohammed) के आतंकी समुद्री रास्ते से भारत पर हमले की फिराक में हैं. खुफिया जांच में पता चला है कि जैश के 50 आतंकियों के एक ग्रुप को पाकिस्तान (Pakistan) में विशेष 'डीप सी डाईविंग' की ट्रेनिंग दी जा रही है. इन आतंकियों को समुद्र में तैनात सुरक्षा बलों पर हमले करने की ट्रेनिंग दी जा रही है. सूत्रों के मुताबिक BSF की इस रिपोर्ट को सदर्न कमांड को भेजा गया है.