close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजनीतिक विचारधारा की लड़ाई में फंसा अंतर्राष्ट्रीय पुष्कर मेला

कांग्रेस नेताओं के मुताबिक, श्री जी महाराज को मुख्य अतिथि बनाकर बीजेपी राजनीतिक स्टंट चल रही है.

राजनीतिक विचारधारा की लड़ाई में फंसा अंतर्राष्ट्रीय पुष्कर मेला
पुष्कर मेले की पहचान भी धार्मिक है.

अजमेर: हिंदू धार्मिक आस्थाओं के केंद्र पुष्कर में लगने वाला अंतर्राष्ट्रीय पुष्कर मेला इस बार राजनीतिक विचारधारा की लड़ाई का शिकार होता हुआ नजर आ रहा है. इस बार मेले का उद्घाटन समारोह ही विवादों के बीच घिरा हुआ है. विवाद निंबार्क पीठ के श्री जी श्याम शरण देवाचार्य को लेकर खड़ा हुआ है.

जानकारी के अनुसार, पुष्कर नगरपालिका बोर्ड पर काबिज बीजेपी स्थानीय प्रशासन को श्री जी महाराज को मेले में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित करने का प्रस्ताव सौंप चुकी है. जबकि कांग्रेस की तरफ से श्री जी के नाम पर विवाद खड़ा किया जा रहा है. इस बीच स्थानीय प्रशासन फिलहाल यह तय नहीं कर पाया है कि धर्मगुरु श्री जी को इस उद्घाटन समारोह में आमंत्रित किया जाए या नहीं.

देश के प्रमुख धर्म पीठों में से एक है निंबार्क पीठ
देश की प्रमुख धर्म पीठों में से एक निंबार्क पीठ के श्री जी श्याम शरण देवाचार्य का नाम हिंदू समाज में बड़ी श्रद्धा के साथ लिया जाता है. धर्म को समर्पित अपने जीवन के दौरान श्री जी कभी भी विवादों में नहीं रहे लेकिन प्रमुख हिंदू धर्म पीठ के श्री जी अचानक उस समय विवादों में आ गए, जब उन्हें अंतर्राष्ट्रीय पुष्कर मेले में उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्य अतिथि बनाए जाने का प्रस्ताव बीजेपी की तरफ से जिला प्रशासन के सामने रखा गया.

पुष्कर मेले का है धार्मिक महत्व
पुष्कर का अपना धार्मिक महत्व है और पुष्कर मेले की पहचान भी धार्मिक है. लेकिन बीजेपी द्वारा पुष्कर मेले की शुरुआत धार्मिक संत से करवाए जाने का प्रस्ताव कांग्रेस को रास नहीं आ रहा है. कांग्रेस नेताओं के मुताबिक, श्री जी महाराज को मुख्य अतिथि बनाकर बीजेपी राजनीतिक स्टंट चल रही है. कांग्रेस नेता गोपाल तिलानिया के मुताबिक, आखिर क्या वजह है कि पुष्कर पालिका चुनाव से पहले बीजेपी को श्री जी याद आए हैं? आखिर क्यों पांच सालों में बीजेपी ने श्री जी को मुख्य अतिथि नहीं बनाया?

प्रशासन नहीं कर पा रहा फैसला
पुष्कर मेले के शुभारंभ में मात्र एक दिन का समय शेष बचा है. बावजूद इसके स्थानीय प्रशासन श्री जी महाराज के नाम पर न तो सहमति व्यक्त कर पाया है और न ही उनके नाम को नकारे जाने की घोषणा कर पा रहा है. पुष्कर एसडीएम देविका तोमर के अनुसार, यह पूरा मामला फिलहाल जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा के पास अंतिम निर्णय के लिए विचाराधीन है. उनके द्वारा ही इस विषय पर अंतिम निर्णय लिया जाना है.

Edited By : Laxmi Upadhyay, News Desk