close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: भामाशाह स्वास्थ्य योजना में हो रहे घोटालों को लेकर गहलोत सरकार हुई सख्त

गहलोत सरकार का मानना है कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत निजी अस्पतालों ने चांदी कूटी है. स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा तक जो आंकड़े पहुंचे हैं, उनके मुताबिक कई बड़े अस्पतालों ने क्लेम के चक्कर में गड़बड़ी की है.

जयपुर: भामाशाह स्वास्थ्य योजना में हो रहे घोटालों को लेकर गहलोत सरकार हुई सख्त
कई बड़े अस्पतालों ने क्लेम के चक्कर में गड़बड़ी की है.

जयपुर: राजस्थान में वसुंधरा राजे सरकार के वक्त शुरू हुई भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में क्लेम को लेकर प्रदेश के निजी अस्पताल चिकित्सा विभाग के रडार पर आ गए हैं. गहलोत सरकार का मानना है कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत निजी अस्पतालों ने चांदी कूटी है. स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा तक जो आंकड़े पहुंचे हैं, उनके मुताबिक कई बड़े अस्पतालों ने क्लेम के चक्कर में गड़बड़ी की है. चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने साफ संकेत दिए है कि जल्द ही इन अस्पतालों पर कार्रवाई की जाएगी.

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा का कहना है कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत करोड़ों रुपए के फर्जी क्लेम उठाने के मामले सामने आए हैं. क्लेम के चक्कर में निजी अस्पतालों ने झूठी बीमारियों के पैकेज बना डाले. 

वहीं, आंकड़ों की बात की जाए तो 24 जून तक निजी अस्पतालों के मरीजों को 1 हजार 866 करोड़ रुपए तक का क्लेम दिया जा चुका है. स्वास्थ्य मंत्री का ये भी कहना है कि कई बड़े अस्पताल क्लेम के चक्कर में गड़बड़ी कर रहे हैं. ये सभी अस्पताल चिकित्सा विभाग के रडार पर आ गए हैं. इनकी जांच की जा रही है. 

साथ ही, स्टेट ग्रीवांस रिड्रेसल कमेटी में अब तक ऐसे 131 गड़बड़ी के मामले पहुंच चुके हैं. इन सभी की जांच के आदेश भी दे दिए हैं. रघु शर्मा ने कहा है कि सिर्फ 20 फीसदी क्लेम ही सरकारी अस्पताल से उठे हैं. जबकि बाकी 80 फीसदी क्लेम निजी अस्पतालों ने उठाए हैं. योजना की मॉनीटरिंग के नाम पर भी करोड़ों का भ्रष्टाचार हुआ है, सरकार जांच करके कार्रवाई करेगी.

--Ashish chaubey, news desk