जयपुर: कांग्रेस का निकाय चुनाव में जीत के गणित पर मंथन, पीसीसी में हुई बैठक

निकाय चुनाव और केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ कांग्रेस के आंदोलन को लेकर पीसीसी में कांग्रेस नेताओं की अहम बैठक हुई. 

जयपुर: कांग्रेस का निकाय चुनाव में जीत के गणित पर मंथन, पीसीसी में हुई बैठक
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान प्रदेश कांग्रेस की बैठक में केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन के जरिए निकाय चुनाव में जीत का रास्ता निकालने पर मंथन हुआ. बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजनीतिक नियुक्तियों के लिए नामों की सूची नहीं देने वाले मंत्री और विधायकों को फटकार भी लगाई. 30 नवंबर तक अब सूचियां तैयार हो जाएंगी और दिसंबर में राजनीतिक नियुक्तियां होने की संभावना है.

दरअसल, निकाय चुनाव और केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ कांग्रेस के आंदोलन को लेकर पीसीसी में कांग्रेस नेताओं की अहम बैठक हुई. बैठक में 16 नंबर को होने वाले 49 निकायों के चुनावों को लेकर जीत के गणित पर मंथन हुआ. कांग्रेस सरकार के 10 महीने के कामकाज  EWS जैसे ऐतिहासिक फैसले और कांग्रेस की नीतियों को जनता के बीच ले जाने के निर्देश दिए गए. कांग्रेस में टिकट वितरण का काम इस बार स्थानीय नेताओं पर ही छोड़ा गया है लिहाजा आज से टिकट वितरण के साथ ही नामांकन का काम शुरू हो जाएगा. बैठक में केंद्र सरकार की  आर्थिक नीतियों के चलते देश में बढ़ रही बेरोजगारी जैसे मुद्दे उठाने के निर्देश दिए गए.

पीसीसी में हुई इस बैठक में राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर भी चर्चा हुई. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पार्टी के मंत्रियों विधायकों को हिदायत दी कि जल्द से जल्द  सूची सौंपी जाए. पहले सूची सूची सौंपने का समय 15 अक्टूबर था. लेकिन मास्टर भंवरलाल मेघवाल समेत कई नेताओं के आग्रह पर अब इसे बढ़ाकर 30 नवंबर कर दिया गया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दो टूक शब्दों में कहा है कि अगर 30 नवंबर तक नेताओं ने सक्रियता नहीं दिखाई तो उनका पत्ता काटा जा सकता है. इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी के लिए जिन कार्यकर्ताओं ने खून पसीना बहाया है उन्हें तवज्जो दी जाएगी.

आपको बता दें कि कांग्रेस केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ देश भर में 5 नवंबर से 15 नवंबर तक सड़कों पर उतरेगी. राजस्थान में 11 नवंबर को जिला स्तर पर प्रदर्शन किए जाएंगे इसके लिए सभी प्रभारी मंत्रियों को 8 से 10 नवंबर तक जिलों में दौरे कर रणनीति बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है. 13 से 15 नवंबर के बीच जयपुर में राज्य स्तरीय प्रदर्शन होगा और दिसंबर के पहले सप्ताह में दिल्ली में राजस्थान कांग्रेस बड़ा प्रदर्शन करेगी. इस आंदोलन के तहत  जहां पैदल मार्च और रैलियां निकाली जाएंगी वहीं सभी जिला स्तर पर केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ जनता को जागरूक करने का काम भी किया जाएगा.