close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जैसलमेर: टिड्डी दलों से हुए फसलों को नुकसान को लेकर किसानों ने मांगा मुआवजा

किसानों का कहना है की टिड्डी दल के कारण किसानों की 70 फीसदी नुकसान हो चुका है. जिसके लेकर किसानों ने फसलों के नुकसान को लेकर मुआवजे की मांग की है.

जैसलमेर: टिड्डी दलों से हुए फसलों को नुकसान को लेकर किसानों ने मांगा मुआवजा
टिड्डी दल से किसानों की 70 फीसदी नुकसान हो चुका है.

जैसलमेर: सरहदी जिले जैसलमेर में पाकिस्तान से आये टिड्डी व फाका दल ने जिले के किसानों की फसलों को पूरी तरह से चौपट कर दिया. जिससे किसानों को बड़ी मात्रा में नुकसान झेलना पड़ा है. टिड्डी दल के कारण हुए खराबे को लेकर शुक्रवार को मोहनगढ़ नहरी क्षेत्र के किसानों ने मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौपा. किसानों का कहना है की टिड्डी दल के कारण किसानों की 70 फीसदी नुकसान हो चुका है. ज्ञापन के जरिए किसानों ने फसलों के खराबे के लिए मुआवजे की मांग की है.

किसानों के मुताबिक पिछले तीन साल से खरीफ की फसलों का 80 फीसदी नुकसान होने के बावजूद किसी भी तरह का मुआवजा इंश्योरेंस कंपनी की तरफ से नहीं दिया गया. वहीं, 2018 में कंपनी ने किसानों को 10 से 25 फीसदी ही क्लेम की राशी दी थी. इसीलिए इस बार उन्होंने मुख्यमंत्री से नुकसान की भरपाई के लिए मुआवजे की मांग की है. किसानों का कहना है की अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो वह अपने अधिकारों के लिए आंदोलन करेंगे.

दरअसल, सरहदी जिला होने की वजह से जोधपुर में पाकिस्तान की तरफ से टिड्डी दलों ने किसानों की फसलों पर धावा बोल दिया था. पाकिस्तान को इन टिड्डी दलों को रोकने के लिए प्रयास करने के लिए क्हा गया था लेकिन इसके बादजूद पाकिस्तान ने कोई भी कदम नहीं उठाया. जिससे किसानों को काफी नुकसान हुआ है. टिड्डी दलों ने किसानों की 70 फीसदी फसलों को नुकसान पंहुचा दिया है.

गौरतलब है कि पहले बाढ़ तथा बारिश ने धरतीपुत्रों को खून के आंसू रुला दिए हैं. खेतों में पानी भरा होने के कारण बाजरे की फसल नष्ट हो गई है. प्रदेश के कई इलाकों में किसानों की फसलें बारिश के कारण तबाह हो गई है. वहीं, टिड्डों के कारण भी कई इलाकों में किसानों  की फसलें नष्ट हो गई हैं. 

वहीं, सरकार द्वारा सभी इलाकों में सर्वे का काम किया जा रहा है. ताकि किसानों के नुकसान का सही अनुमान लगाया जा सके. कृषि अधिकारी के मुताबिक फसल बीमा के तहत सर्वे किया जा किया जा रहा है. सर्वे का बाद जल्द ही किसानों को नुकसान हुए फसल के लिए मुआवाज दिया जाएगा.  

--Sumit Singh, news desk