close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जैसलमेर: शहीद राजेंद्र सिंह के नाम पर सफेदी पोतने के बाद मचा हंगामा, जानिए पूरा मामला

आज कॉलेज प्रशासन द्वारा अपने कुछ कर्मचारियों के साथ मिलकर हॉस्टल के आगे लिखे शहीद के नाम पर सफेदी पोत दी गई.

जैसलमेर: शहीद राजेंद्र सिंह के नाम पर सफेदी पोतने के बाद मचा हंगामा, जानिए पूरा मामला
इस घटना के बाद लोगों का गुस्सा देखने को मिल रहा है.

मनीष रामदेव/ जैसलमेर : पिछले दिनों जम्मू-कश्मीर(Jammu Kashmir) के रामबन के पास आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए जैसलमेर(Jaisalmer) के मोहनगढ़(Mohangarh) कस्बे के शहीद राजेंद्र सिंह को लेकर देशभर में श्रद्धा और सम्मान का भाव देखा गया था. वहीं इसी श्रद्धा और सम्मान का प्रदर्शन करते हुए सरहदी जिले जैसलमेर के राजकीय महाविद्यालय के छात्रसंघ ने भी कॉलेज परिसर की एक हॉस्टल का नाम शहीद के नाम से रख दिया था.

लेकिन कॉलेज प्रशासन की आपसी राजनीति के चलते जहां कुछ दिन पूर्व हॉस्टल के आगे एक समारोह का आयोजन कर शहीद को श्रद्धांजलि देकर हॉस्टल का नामकरण शहीद राजेन्द्र सिंह भाटी हॉस्टल(Rajendra Singh Bahti Hostel) किया गया था. वहां आज कॉलेज प्रशासन द्वारा अपने कुछ कर्मचारियों के साथ मिलकर हॉस्टल के आगे लिखे शहीद के नाम पर सफेदी पोत दी गई. 

हालांकि इस प्रकरण पर कॉलेज प्रशासन का कहना है कि छात्रसंघ द्वारा हॉस्टल के नामकरण को लेकर कोई औपचारिक प्रक्रिया नहीं की गई थी, वहीं छात्रसंघ अध्यक्ष डूंगर सिंह का कहना है कि हॉस्टल के नामकरण से पहले कॉलेज प्रिंसिपल से बात की गई थी. जिसमें उन्होंने नामकरण की अनुशंसा करने के साथ आगे की कार्यवाही में सहयोग करने की बात कही थी.

दरअसल छात्रसंघ अध्यक्ष अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से हैं. वहीं सूबे में कांग्रेस की सरकार है और जिले में विधायक भी कांग्रेस के ही हैं. ऐसे में संभावना जताई जा रही है कि दलगत राजनीति के चलते कॉलेज प्रशासन द्वारा ऐसा किया गया है. 

कॉलेज प्रशासन द्वारा शहीद का नाम मिटाने के वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद लोगों का गुस्सा कॉलेज के प्रति देखने को मिल रहा है. जिसमें लोगों का कहना है नाम पर सफेदी पोत के कॉलेज ने शहीद का अपमान किया है. शहीद किसी पार्टी, नेता, राजनीति, जाति का नहीं होता. देश का सपूत होता है जिसको लेकर ऐसी राजनीति नहीं होनी चाहिेए.