close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जालोर: नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे का निजीकरण होने से नाराज कर्मचारी, कर रहे विरोध प्रदर्शन

कर्मचारियों का कहना है कि अगर निजीकरण के लिए रेलवे के दरवाजे खोले जाएंगे तो उससे बेरोजगारी बढ़ेगी.

जालोर: नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे का निजीकरण होने से नाराज कर्मचारी, कर रहे विरोध प्रदर्शन

जालोर: नॉर्थ वेस्टर्न एम्प्लायज युनियन जोधपुर मंडल की समदड़ी शाखा की तरफ से रेलवे में हो रहे निजीकरण को लेकर जालोर रेलवे स्टेशन पर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया गया. रेलवे में निजीकरण को लेकर रेलवे ड्राइवर सहित अन्य स्टाफ ने अपना विरोध दर्ज करवाया. कर्मचारियों का कहना है कि एक तरफ देश में बेरोजगारी चरम पर है. दूसरी तरफ सरकार निजीकरण कर रेलवे जैसे विभाग में भी रोजगार पर ब्रेक लगाने पर आमादा है. रेलवे कर्मचारियों का कहना है कि अगर जल्द ही निजीकरण की ओर बढ़ते कदमों को नहीं रोका गया तो वो अपना आंदोलन तेज करेंगे.

जानकारी के मुताबिक रेलवे में निजीकरण के मौकों को जिस तरीके से बढ़ाया जा रहा है. उससे रेलवे कर्मचारी नाराज हैं.  कर्मचारियों का कहना है कि अगर निजीकरण के लिए रेलवे के दरवाजे खोले जाएंगे तो उससे बेरोजगारी बढ़ेगी. कर्मचारियों का कहना है कि पहले ही देश में बेरोजगारी चरम पर है. 

ऊपर से सबसे ज्यादा रोजगार देने वाले रेलवे को भी सरकार निजी हाथों में देने को बेकरार है. इससे और ज्यादा बेराजगारी बढ़ेगी. इतना ही नहीं रेलवे काफी ज्यादा राजस्व सरकार को देता है. अगर रेलवे को निजी हाथों में दिया जाता है तो ये राजस्व भी निजी लोगों के खातों में जाएगा. कर्मचारियों का कहना है कि अगर जल्द ही उनकी मांगो को नहीं माना गया तो वो अपनी मांगे तेज करेंगे.

जाहिर है हालही में निजी क्षेत्र की भागीदारी रेलवे में बढ़ाने के लिए आईआरसीटीसी के जरिए एक ट्रेन का संचालन रेलवे विभाग की तरफ से करवाया गया है. अगर ये योजना कामयाब रहती है तो निजी क्षेत्र को और मौके रेलवे में दिए जाएंगे. जिसका कर्मचारी विरोध कर रहे हैं.

-- सुमित सिंह, न्यूज डेस्क