close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झालावाड़: नाम बदले जाने से परेशान छात्रों ने कॉलेज के गेट पर लटकाया ताला, किया प्रदर्शन

छात्रों ने आशंका जताई कि अगले वर्ष की अंकतालिका में भी राजकीय शब्द शामिल नहीं होगा, जिसका परिणाम उन्हें प्लेसमेंट के दौरान भी भुगतना पड़ेगा. 

झालावाड़: नाम बदले जाने से परेशान छात्रों ने कॉलेज के गेट पर लटकाया ताला, किया प्रदर्शन

महेश परिहार, झालावाड़: जिले के राजकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय में बुधवार को छात्रों ने जमकर हंगामा किया और मुख्य गेट पर ताला लगा दिया. नाराज छात्रों ने कॉलेज प्राचार्य को भी अंदर नहीं घुसने दिया. इस दौरान प्रदर्शनकारी छात्रों ने मुख्य द्वार के बाहर जमकर नारेबाजी की.

गौरतलब है कि कॉलेज प्रशासन के निर्णय के बाद छात्रों ने 7 दिन पूर्व भी जमकर हंगामा कर प्रदर्शन किया था. उस दौरान कॉलेज प्रशासन ने छात्रों की समझाइश कर दी थी लेकिन 7 दिन बाद भी परेशानियों का हल नहीं निकला. ऐसे में छात्रों को आज फिर प्रदर्शन के लिए मजबूर होना पड़ा.

प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने बताया कि उन्होंने इंजीनियरिंग कॉलेज में राजकीय होने के कारण प्रवेश लिया था लेकिन अब नए आदेशों के बाद कॉलेज को राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज की जगह सिर्फ इंजीनियरिंग कॉलेज माना जाएगा. ऐसे में कॉलेज के निजीकरण के कारण छात्रों के भविष्य पर तलवार लटक गई है. 

छात्रों ने आशंका जताई कि अगले वर्ष की अंकतालिका में भी राजकीय शब्द शामिल नहीं होगा, जिसका परिणाम उन्हें प्लेसमेंट के दौरान भी भुगतना पड़ेगा. ऐसे में छात्रों की मांग है, कि कॉलेज को पूर्ववत राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय के तौर पर ही रखा जाए और कॉलेज का नाम परिवर्तित नहीं करने दिया जाएगा. उधर घटना की सूचना पर झालरापाटन थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची और छात्रों को किसी तरह हटाने का प्रयास किया लेकिन छात्र अपनी मांगों पर अड़कर मुख्य गेट पर जमे रहे.

उधर कॉलेज प्राचार्य करतार सिंह ने बताया कि हाल ही में सरकार द्वारा पत्र प्राप्त हुआ है. जिसके तहत कॉलेज के नाम से राजकीय शब्द हटाना होगा. हालांकि, इसका कॉलेज संचालन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा और कॉलेज पूर्व की तरह सरकारी स्वायत्तता ही माना जाएगा. ऐसे में छात्रों को किसी प्रकार का संशय नहीं रखते हुए अपने अध्ययन पर ध्यान देना चाहिए लेकिन राजकीय शब्द हटाने का मतलब क्या निजीकरण नहीं होगा. इसका जवाब कॉलेज प्राचार्य नहीं दे पाए.