close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कर्नाटक विधानसभा स्‍पीकर ने 3 विधायकों की सदस्‍यता खत्‍म की, नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

कर्नाटक विधानसभा में कांग्रेस और जेडीएस सरकार विश्‍वास मत हार चुकी है. इसके बाद विधानसभा स्‍पीकर ने विधायकों के खिलाफ ये कार्रवाई की है.

कर्नाटक विधानसभा स्‍पीकर ने 3 विधायकों की सदस्‍यता खत्‍म की, नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

बेंगलुरु: कर्नाटक विधानसभा के स्‍पीकर केआर रमेश ने तीन विधायकों को अयोग्‍य करार दिया है. इनमें दो विधायक कांग्रेस के और एक विधायक निर्दलीय है. स्‍पीकर का कहना है कि वह निर्दलीय विधायक ने खुद को कांग्रेस में विलय कर लिया था, इसलिए वह भी कांग्रेस का ही हिस्‍सा थे. इस लिए पार्टी विरोधी गतिविधि के कारण स्‍पीकर ने उन्‍हें भी अयोग्‍य करार दिया है.

जिन तीन विधायकों को स्‍पीकर केआर रमेश ने अयोग्‍य करार दिया है, उनमें कांग्रेस के बागी विधायक रमेश जारकीहोली और महेश कुमाथल्‍ली शामिल हैं. निर्दलीय विधायक आर शंकर को भी स्‍पीकर ने अयोग्‍य घोषित करार दिया है. इन विधायको के खिलाफ स्‍पीकर ने एंटी डिफेक्‍शन लॉ के तहत कार्रवाई की है. अगर स्‍पीकर का यही फैसला लागू रहा तो ये विधायक इस विधानसभा के समाप्‍त होने तक चुनाव नहीं लड़ सकेंगे.

के आर रमेश कुमार ने बताया कि निर्दलीय विधायक आर शंकर, कांग्रेस के विधायकों रमेश जारकिहोली और महेश कुमातल्ली की सदस्यता समाप्त कर दी गई है. इस प्रकार अब तक कुल तीन विधायकों की सदस्यता समाप्त कर दी गई है. स्‍पीकर के अनुसार, अभी तक सिर्फ 3 विधायकों के बारे में फैसला लिया गया है. बाकी के विधायकों के बारे में जल्‍द ही फैसला ले लिया जाएगा.

केआर रमेश के अनुसार, ये केस कॉम्‍प्‍लीकेटड है. इसलिए मैं इसमें जल्‍दबाजी नहीं करना चाहता था. इस मामले में मेरे सामने 17 याचिकाएं आईं. इसमें 2 अयोग्‍यता संबंधी और अन्‍य इस्‍तीफे के बारे में थीं. स्‍पीकर ने बताया, जिन तीन विधायकों की सदस्‍यता गई है उनमें एक विधायक शंकर हैं. उन्‍होंने विधानसभा चुनाव निर्दलीय के तौर पर लिया था. 25 जून को उन्‍होंने कांग्रेस में विलय कर लिया. इस बारे में सिद्धरमैया ने अपील की थी. इसलिए उन्‍हें कांग्रेस की सीट दी गई. 8 जुलाई को शंकर नागेश ने मंत्रीपद से इस्‍तीफा दिया. इसके बाद उन्‍होंने बीजेपी को समर्थन देने का दावा किया. सिद्धरमैया ने इस बारे में स्‍पीकर यानी मेरे सामने शिकायत दर्ज कराई.