कांग्रेस विधायकों में गुत्थमगुत्था, हत्या के प्रयास का केस दर्ज; पार्टी ने एक को किया सस्पेंड

दोनों उस रिजार्ट में ठहरे हुए थे जहां कांग्रेस के विधायकों को बीजेपी की खरीद फरोख्त के कथित प्रयासों से बचाने के लिए ठहराया गया था.

कांग्रेस विधायकों में गुत्थमगुत्था, हत्या के प्रयास का केस दर्ज; पार्टी ने एक को किया सस्पेंड
जेएन गणेश ने कहा, यह सब झूठ है. अगर वह कुछ गलत हुआ है तो मैं अपने परिवार के साथ जाकर आनंद सिंह से माफी मांगूंगा.

बेंगलुरु: कांग्रेस विधायक जे एन गणेश के खिलाफ यहां एक रिजार्ट में अपने साथी विधायक आनंद सिंह के साथ कथित झगड़े को लेकर सोमवार को हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया गया. अपने विधायकों के बीच इस फसाद के बाद शर्मसार महसूस कर रही कांग्रेस ने भी गणेश के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया. शनिवार की देर रात हुए इस झगड़े में सिंह घायल हो गए थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था.सिंह की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया.

सिंह और गणेश दोनों ही बेल्लारी जिले से हैं . दोनों के बीच काफी गर्मागर्म झड़प हो गयी थी. ये दोनों उस रिजार्ट में ठहरे हुए थे जहां कांग्रेस के विधायकों को भाजपा के खरीद फरोख्त के कथित प्रयासों से बचाने के लिए ठहराया गया था. सिंह को जिस निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उसके सूत्रों ने रविवार को बताया था कि सिंह की ‘‘एक आंख काली पड़ गयी थी और उन्हें तेज चोटें आई हैं.’’

पार्टी से निलंबित
घटना को कोई अधिक तव्वजो नहीं देते हुए कांग्रेस ने गणेश को पार्टी से निलंबित कर दिया और साथ ही उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर की अध्यक्षता में एक जांच समिति के गठन का भी ऐलान कर दिया. प्रदेश कांग्रेस पार्टी ने एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी है. जांच समिति में मंत्री के जे जार्ज और कृष्णा बायरे गौड़ा भी शामिल हैं . समिति को जल्द से जल्द अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है.

यह फर्जी खबर है
कांग्रेस नेताओं ने रविवार को घटना के संबंध में विरोधाभासी बयान दिए थे. कांग्रेस नेता एवं कर्नाटक सरकार में वरिष्ठ मंत्री डी के शिवकुमार ने इन खबरों को खारिज किया था कि आनंद सिंह पर हमला हुआ. उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस के सारे विधायक एकजुट हैं. शिवकुमार ने कहा, ‘‘किसी ने गुमराह किया है. कोई हमला नहीं हुआ. (सिंह के सिर पर) बोतल मारने की कोई घटना नहीं हुई. यह फर्जी खबर है. हर कोई साथ है. पूरी कांग्रेस एकजुट है.’’

कारोबार का मामला
कांग्रेस प्रवक्ता एवं निजामाबाद के पूर्व सांसद मधु गौड़ याक्षी ने बताया, ‘‘यह निजी मामला था, जिले से जुड़ा था. वे कारोबार में एक साथ हैं. इस झड़प का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है. लेकिन कांग्रेसी नेताओं के दावों के विपरीत सिंह का इलाज करने वाले अस्पताल ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि 20 जनवरी को ईगलटन रिसोर्ट में पीड़ित को सिर, चेहरे पर चोट आयी और सीने में बांई ओर दर्द था. हालांकि वह होश में रहे, उन्हें कोई दौरा नहीं पड़ा और न ही उन्होंने उल्टी की.

‘असंतुष्ट’ विधायकों में शामिल
रिपोर्ट में यह भी दर्ज किया गया है, ‘‘काली आंख, नाक पर जमा खून का थक्का और बांई ओर सीने में सूजन .’’ गणेश कांग्रेस के उन ‘असंतुष्ट’ विधायकों में शामिल बताए जाते हैं जो कथित तौर पर भाजपा में शामिल होने की योजना बना रहे पार्टी के असंतुष्ट विधायकों के संपर्क में हैं.

जान से मारने की धमकी
प्राथिमकी के अनुसार, हत्या के प्रयास के अलावा गणेश पर गंभीर रूप से घायल करने और धमकी देने का भी आरोप लगाया गया है. सिंह ने आरोप लगाया है कि शनिवार की रात जब वह खाना खाने के बाद अपने कमरे की ओर जा रहे थे तो गणेश ने उनका रास्ता रोक लिया.

डंडे से वार किया
प्राथमिकी के अनुसार, सिंह ने अपनी शिकायत में कहा है कि गणेश विधानसभा चुनाव के दौरान वित्तीय सहायता नहीं किए जाने को लेकर उनसे नाराज था. गणेश ने आरोप लगाया कि सिंह के भतीजे संदीप ने उन्हें राजनीतिक रूप से खत्म करने की धमकी दी थी. इतना कहने के बाद दोनों के बीच में झगड़ा शुरू हो गया. इसके बाद गणेश ने कथित रूप से सिंह पर डंडे से वार किया.

पेट में लातें मारी गईं
इसके बाद गणेश ने सिंह के सिर को दीवार में दे मारा और जब सिंह जमीन पर गिर गए तो उनके पेट में लातें मारी गईं . सिंह ने अपनी शिकायत में यह भी कहा है कि इसके बाद उसने उन्हें खत्म करने के लिए रिवाल्वर मांगी. सिंह ने अपनी शिकायत में आगे कहा है कि उनके तथा उनके परिवार के सदस्यों की जान खतरे में है. इसके साथ ही उन्होंने पुलिस सुरक्षा के साथ ही आरोपी के खिलाफ उचित कार्रवाई की भी मांग की है.

(इनपुट-भाषा)