close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारतीय सीमा में जहां से होते थे करतारपुर गुरुद्वारे के दर्शन अब तोड़ा जाएगा वो स्थान

जो संस्था करतारपुर दर्शन स्थल के रख रखाव की ज़िम्मेदारी देखी रही है उसकी तरफ से इस बात की पुष्टि की गई है.

भारतीय सीमा में जहां से होते थे करतारपुर गुरुद्वारे के दर्शन अब तोड़ा जाएगा वो स्थान
फाइल फोटो- PTI

परमवीर ऋषि, गुरदासपुरः भारत और पाकिस्तान के बीच बनने जा रहे करतारपुर कोरीडोर को लेकर भारत की तरफ से काम में तेज़ी देखने को मिल रही है लेकिन इसके चलते संगत के लिए एक ऐसी ख़बर है जिससे उनको कुछ निराशा होगी. दरअसल करतारपुर कॉरिडोर को पूरा करने के लिए भारत की तरफ बने करतारपुर दर्शन स्थल जहां संगत दूरबीन के द्वारा पाकिस्तान में स्थित गुरुद्वारा श्री दरबार साहब करतारपुर के दर्शन करते हैं उस स्थल को तोड़ दिया जायेगा. ऐसा भी बताया जा रहा है कि आने वाले कुछ ही दिनों में जो संगत दूरबीन के द्वारा दर्शन कर सकती थी उस पर रोक लगा दी जायेगी.

इस मामले वैसे तो सरकार की तरफ से पुष्टि नहीं हुई है. लेकिन जो संस्था करतारपुर दर्शन स्थल के रख रखाव की ज़िम्मेदारी देखी रही है उसकी तरफ से इस बात की पुष्टि की गई है.

दर्शन स्थल का निर्माण करने वाली संस्था के बाबा सुखदीप सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि उनको नेशनल हाईवे अथॉरिटी की तरफ से यह जानकारी दी गई है कि इस दर्शन स्थल को ख़त्म कर इस रास्ते को 6 मई से संगत के लिए बंद किया जा रहा है और मुख्य वजह है कि करतारपुर दर्शन स्थल और पुल बनने जा रहा है जो पाकिस्तान की सरहद के नज़दीक जुड़ेगा. उन्होंने अपील की है कि संगत के लिए कोई ओर जगाह देख कर दर्शन स्थल बनाने की अनुमति दी जाए. उन्होंने कहा कि वह ख़ुद आप वहां संगत के लिए स्थल बनाने के लिए तैयार हैं जहां से संगत दूरबीन रही दर्शन कर सकेगी. 

सिख संगत ने भी की सरकार से अपील
वहीं नानक नाम लेवा और सिख संगत भी यह सरकार से अपील कर रही है कि जहां करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है वहां ही एक दर्शन स्थल भी ज़रूरी होना चाहिए दिया जो संगत जैसे सालों से दूरबीन रही दर्शन कर रही थी वैसे कर सके क्योंकि बहुत ऐसे भी लोग होंगे जो किसी वजह के साथ पाकिस्तान में गुरुद्वारा साहब जाकर नतमस्तक नहीं हो पाएंगे. इसलिए उनको वह सुविधा मिल सके जो पहला मिल रही है. 

कहां है यह गुरुद्वारा
पाकिसतान में स्थित गुरुद्वारा दरबार साहब करतारपुर के खुले रस्ते की मांग सिक्ख संगत और नानक नाम लेवा संगत कई सालों से करती आ रही है. संगत की श्रद्धा को देखते हुए बीएसएफ के आधिकारियों ने एक धार्मिक संस्था के सहयोग के साथ कंटीली तार के नज़दीक ही पक्के तौर पर धुस्सी पर एक करतारपुर दर्शन स्थल बनवाया था और इस स्थल और दूरबीन स्थापित की गई. यहां संगत की सुविधा के लिए एक कैंटीन भी बनाई गई और इस स्थल का निर्माण 6 मई 2008 को हुआ था.