close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

करुणानिधि मेरे लिए पिता समान थे : सोनिया गांधी ने एमके स्टालिन को लिखा पत्र

रुणानिधि के बेटे एमके स्टालिन को लिखे एक पत्र में सोनिया ने कहा, "आपके परम पूजनीय व प्यारे पिता के निधन की खबर सुनकर बहुत दुखी हूं."

करुणानिधि मेरे लिए पिता समान थे : सोनिया गांधी ने एमके स्टालिन को लिखा पत्र
फाइल फोटो

नई दिल्ली : कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि के निधन पर बुधवार को शोक प्रकट किया और उन्हें पिता समान बताया. उन्होंने कहा कि करुणानिधि ने हमेशा उनके प्रति दयालुता और सरोकार दिखाया था. करुणानिधि के बेटे एमके स्टालिन को लिखे एक पत्र में सोनिया ने कहा, "आपके परम पूजनीय व प्यारे पिता के निधन की खबर सुनकर बहुत दुखी हूं."

उन्होंने कहा, "मेरे लिए कालिगनार का निधन व्यक्तिगत क्षति है. उन्होंने मेरे प्रति बड़ी ही दयालुता और सरोकार दिखाया था, जिसे मैं कभी नहीं भूल सकती. वह मेरे लिए पिता समान थे." कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष ने यह भी कहा कि कलिगनार विश्व की राजनीति में एक शीर्ष नेता थे और उन्होंने हमारे राष्ट्र व तमिलनाडु दोनों के लिए सार्वजनिक सेवा की. 

उन्होंने कहा, "अपने लंबे और शानदार जीवन के दौरान वह हमेशा समानता, सामाजिक न्याय, विकास, प्रगति, तमिलनाडु की समृद्धि और प्रत्येक नागरिक विशेष रूप से गरीब व हाशिए पर रहे लोगों के कल्याण के लिए खड़े रहे." कांग्रेस नेता ने कहा, "करुणानिधि एक शानदार साहित्यिक व्यक्ति भी थे, जिन्होंने तमिलनाडु की समृद्ध व विशिष्ट संस्कृति और कला को बढ़ावा देने के लिए बहुत कुछ किया और इसे विश्वव्यापी मान्यता दिलाई."

ये भी पढ़ें- एम करुणानिधि को मरीना बीच पर ही दफनाने के लिए DMK क्‍यों अड़ी है?

 

 

उन्होंने कहा, "तमिलनाडु की सरकार और राजनीति पर उनके दशकों तक रहे दबदबे ने एक शानदार और स्थायी विरासत छोड़ी है, जिसके लिए उन्हें हमेशा सम्मानित और याद किया जाएगा. मेरा मानना है कि उन्हें पूरा विश्वास था कि आप उनकी विरासत को संभालेंगे और आगे बढ़ाएंगे." 

ये भी पढ़ें- एम करुणानिधि को दाह संस्‍कार की जगह दफनाया जाएगा, आखिर क्‍यों?

सोनिया ने कहा, "हम कलिगनार जैसे व्यक्ति को फिर से नहीं देख पाएंगे. उनकी बुद्धिमान राजनीति और देश व लोगों के प्रति उनके समर्पण के बिना हमारा देश निर्धन हो गया है."