जैव विविधता पर बाढ़ के प्रभाव का आकलन करेगी केरल सरकार : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के कार्यालय ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि जैव विविधता को हुए नुकसान के आकलन और इस पर तथा परिस्थितिकी तंत्र पर पड़े प्रभाव के अध्ययन के लिये आंकड़े जुटाने का काम एक महीने में पूरा कर लिया जाएगा.

जैव विविधता पर बाढ़ के प्रभाव का आकलन करेगी केरल सरकार : मुख्यमंत्री

तिरुवनंतपुरम : केरल सरकार ने शुक्रवार को फैसला किया कि पिछले महीने आई भीषण बाढ़ के बाद जमीनी स्तर पर जैवविविधता को हुए नुकसान का आकलन कराया जाएगा. मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के कार्यालय ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि जैव विविधता को हुए नुकसान के आकलन और इस पर तथा परिस्थितिकी तंत्र पर पड़े प्रभाव के अध्ययन के लिये आंकड़े जुटाने का काम एक महीने में पूरा कर लिया जाएगा.

इसमें कहा गया कि केरल राज्य जैव विविधता बोर्ड स्थानीय निकायों की जैवविविधता प्रबंधन समितियों की सहायता से बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित जिलों में यह अध्ययन करेगा. पोस्ट में मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि इसके नतीजों का इस्तेमाल राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फंडिंग एजेंसियों की मदद से सतत विकास की व्यापक योजनाओं को बनाने में किया जाएगा. बड़ी संख्या में भूस्खलन और भीषण बाढ़ की वजह से राज्य में बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है. राज्य में 29 मई को मानसून की दस्तक के बाद से मरने वालों का आंकड़ा 491 तक पहुंच गया है.

गायत्री परिवार ने केरल के लिए दिए सवा करोड़ रुपए
केरल बाढ़ प्रभावितों के लिए अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्या एवं शैलदीदी ने सवा करोड़ रुपये जमा किए. यह राशि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से मिलकर प्रधानमंत्री राहत कोष के लिए दी. डॉ. पण्ड्या ने बताया, "पीड़ितों के प्रति सदैव सहानुभूति रखने वाले गायत्री परिवार केरल बाढ़ प्रभावितों के बीच मुस्तैदी के साथ खड़ा है. हमारे हजारों स्वयंसेवक केरल के विभिन्न जिलों में भोजन, मेडिकल, सामुदायिक भवनों, सफाई अभियान व कीट नाशक दवाओं का छिड़काव जैसे राहत कार्य में जुटे हैं."

उन्होंने बताया कि गुजरात भूकंप, केदारनाथ त्रासदी कोई अन्य विपदा, सभी में गायत्री परिवार ने अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन किया है. संस्था की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने कहा कि प्रधानमंत्री को भेंट की गई इस राशि से पीड़ित मानवता की सेवा में सहायता होगी.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.