close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्रदेश में कब और कैसे होगा निकाय चुनाव, जानने के लिए यहां क्लिक करें

प्रदेश के 49 निकायों में 16 नवंबर को मतदान होगा और 19 नवंबर को मतगणना होगी. राज्य निर्वाचन आयोग आयुक्त प्रेम सिंह मेहरा ने चुनाव कार्यक्रम की घोषणा की. आयोग की घोषणा के साथ ही प्रदेश में आदर्श आचार संहिता(Model Code of Conduct) लागू हो गई है. जो संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों में लागू रहेगी.

प्रदेश में कब और कैसे होगा निकाय चुनाव, जानने के लिए यहां क्लिक करें
सोशल मीडिया से संबंधित कोई भी पॉलिसी नहीं बनी है. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: प्रदेश के 49 निकायों में 16 नवंबर को मतदान होगा और 19 नवंबर को मतगणना होगी. राज्य निर्वाचन आयोग आयुक्त प्रेम सिंह मेहरा ने चुनाव कार्यक्रम की घोषणा की. आयोग की घोषणा के साथ ही प्रदेश में आदर्श आचार संहिता(Model Code of Conduct) लागू हो गई है. जो संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों में लागू रहेगी.

प्रदेश के 49 निकायों में चुनाव होगा. जिसमें से 43 पुराने निकायों का समय नवंबर में पूरा हो रहा है. इसके साथ ही 6 नवगठित नगरपालिकाओं में भी चुनाव होंगे. 32 लाख 99 हजार 337 मतदाता 2105 नए पार्षदों का चुनाव करेंगे. सबसे ज्यादा मतदाता बीकानेर नगर निगम(Bikaner Municipal Corporation) में है. वहीं सबसे कम मतदाता नसीराबाद नगरपालिका(Nasirabad Muncipality) में है. 

इसकी अधिसूचना 1 नवंबर को जारी होगी. वहीं, 5 नवंबर को नामांकन पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि जारी होगी. 6 नवंबर को नामांकन पत्रों की संवीक्षा और नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 8 नवंबर को रखी गई है. निकाय चुनाव के प्रत्याशियों को 9 नवंबर को चुनाव चिन्हों का आवंटन किया जाएगा. इसके साथ ही 16 नवंबर को सुबह 7 से शाम 5 बजे तक मतदान होगा. वहीं, 19 नवंबर को मतगणना होगी.

जानिए अध्यक्षीय पदों के लिए जारी डेट्स
निकाय चुनाव के लिए 20 नवंबर को लोक सूचना जारी होगी. जिसके बाद 21 नवंबर को नामांकन और 22 नवंबर को नामांकन पत्रों की संवीक्षा होगी. चुनाव में खड़े होने वाले उम्मीदवार 23 नवंबर को नामांकन वापस ले सकेंगे. इसके बाद चुनाव चिन्ह का आवंटन होगा. 26 नवंबर को सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक मतदान होगा और उसी दिन मतगणना होगी.

उपाध्यक्षीय पदों के लिए जारी चुनाव कार्यक्रम
प्रदेश के निकायों के उपाध्यक्षिय पदों के लिए 27 नवंबर को निर्वाचन होगा. जिसके लिए सुबह 10 बजे बैठक होगी. इसके बाद सुबह 11 बजे तक उम्मीदवार नामांकन दाखिल कर सकेंगे. इसके बाद 11.30 नामांकन पत्रों की जांच होगी. उम्मीदवार 2 बजे तक नाम वापस ले सकेंगे. आवश्यक होने पर 2.30 से 5 बजे तक मतदान और इसके बाद मतगणना होगी.

आयुक्त प्रेम सिंह मेहरा ने कहा कि पार्षद के लिए शैक्षणिक योग्यता वाला प्रावधान हटाने के बाद अब कोई भी व्यक्ति चुनाव लड़ सकता है. इसके लिए शैक्षणिक योग्यता जरूरी नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि तीन संतान होने पर वह सदस्य बनने के लिए अयोग्य माना जाएगा. उन्होंने कहा कि संतान गोद देने पर भी संतान की संख्या मानी जाएगी. 

आयोग ने कहा कि सभी जगह ईवीएम से चुनाव कराए जाएंगे. चुनाव के लिए 3479 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. वहीं मतदाताओं की सहायता के लिए मतदान सहायता केंद्र बनाए जाएंगे. दिव्यांग मतदाताओं की सहायता के लिए स्काउट, एनसीसी कैडेट लगाए जाएंगे. 

आयुक्त मेहरा ने कहा कि निष्पक्ष चुनाव के लिए आईएएस और सीनियर आरएएस अधिकारियों को ऑब्जर्वर लगाया जाएगा. वहीं प्रदेश भर में निकाय चुनाव के लिए 20 हजार पुलिसकर्मी, आरएसी, अर्धसैनिक बलों की तैनाती की जाएगी. 

बढ़ाई चुनाव खर्च सीमा
पिछले निकाय चुनाव की तुलना में इस बार निकाय चुनाव में प्रत्याशियों की खर्च करने की सीमा बढ़ाई गई है. नगर निगम में पार्षदों के चुनाव खर्च को 80 हजार से बढ़ाकर 2.50 लाख, नगर परिषद में 60 हजार  से बढ़ाकर 1.50 लाख, नगर पालिका में 40 हजार से बढ़ाकर 1 लाख रुपए कर दिया है.  वहीं, प्रचार प्रसार के लिए गाड़ियों की संख्या भी निश्चित की गई है. नगर निगम में 3, नगर परिषद में 2 और नगरपालिका में प्रचार प्रसार के लिए 1 गाड़ी का उपयोग कर सकते हैं. 

हालांकि निकाय चुनाव को लेकर आयोग कोई पॉलिसी नहीं बना पाया. पॉलिसी नहीं बनने के कारण सोशल मीडिया पर प्रचार प्रसार पर कोई रोक नहीं रहेगी. राज्य निर्वाचन आयुक्त प्रेम सिंह मेहरा ने कहा कि सरकार हाइब्रिड मॉडल संबंधी कोई संशोधन करती है तो उसके द्वारा जानकारी दिए जाने पर विधिक राय ली जाएगी.