close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में दिखी पाकिस्तान की 'कबूतरबाजी', कबूतर के पंखों पर ऊर्दू में लिखा था संदेश

कबूतर की दाईं और बाईं तरफ उर्दू में और पंख पर एक नंबर लिखा था. 

राजस्थान में दिखी पाकिस्तान की 'कबूतरबाजी', कबूतर के पंखों पर ऊर्दू में लिखा था संदेश
फिलहाल पाकिस्तान का कबूतर हिंदुस्तान के पिंजरे में है .

कुलदीप, श्रीगंगानगर: सरहद पार यानि की पाकिस्तान से उड़ान भरने वाले कबूतर की सूचना पाते ही सुरक्षाकर्मियों के तोते उड़ गए. सफेद रंग के इस कबूतर को देखने के लिए बीएसएफ से लेकर पुलिसकर्मी तक पहुंचे. दरअसल सुबह करीब 6 बजे गांव 61F की ढाणी मे सुखदेव सिंह बावरी के खेत में शीशम के पेड़ की टहनी के नीचे एक कबूतर बैठा था. सुखदेव सिंह बावरी का पुत्र जब सुबह घूमने के लिए अपने खेत गया तो उसने वहां सफेद कबूतर को देखा और वो उसे अपने साथ घर ले आया. जब कबूतर को नजदीक से देखा तो पता उसकी गर्दन पर रंगीन निशान दिखाई दिया. इतना ही नहीं कबूतर के पंख पर निशान के साथ कुछ नंबर भी लिखे दिखे. कबूतर की दाईं और बाईं तरफ उर्दू में और पंख पर एक नंबर लिखा था. 

इसके बाद सुखदेव सिंह ने इसकी सूचना तुरंत गांव 63एफ की बीएसएफ पोस्ट पर दी. जिसके बाद बीएसएफ के अधिकारी मौके पर पहुंचे और कबूतर की जांच की.  मामला संदिग्ध नहीं होने पर बीएसएफ ने कबूतर को कब्जे में नहीं लिया और स्थानीय पुलिस को इस बारे में सूचना दी गई. सुखदेव सिंह की सूचना पर करणपुर पुलिस की तरफ से हेड कांस्टेबल महेंद्र कुमार मौके पर पहुंचे और कबूतर को अपने कब्जे मे लेकर श्रीकरणपुर थाना लेकर आए.  

LIVE TV देखें:

इस संबंध में श्रीकरणपुर थानाधिकारी राजकुमार राजोरा ने बताया की पकड़े गए कबूतर की पूंछ पर कुछ नंबर और उस्ताद अख्तर लिखा है. वहीं दाईं तरफ इरफ़ान या मरफान लिखा है. 

माना जा रहा है कि कबूतर किसी का पालतू है. जो रास्ता भटक कर इस और आ गया. कबूतर को ढूंढने के लिए किसी ने अपनी पहचान के लिए ये नंबर और नाम कबूतर पर लिखे है. फिलहाल डीएसपी प्रताप सिंह डूडी और अन्य उच्चाधिकारीयों को मामले की जानकारी दे दी गई है. फिलहाल पाकिस्तान का कबूतर हिंदुस्तान के पिंजरे में है .